श्रमिक एक्सप्रेस को लेकर चौंकाने वाली खबर सामने आई है। बताया गया है कि अब तक इन ट्रेनों में 24 गर्भवती महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया है। खास बात ये है कि इन महिलाों की डिलिवरी के वक्त मौजूद चिकित्सकों ने ट्रेनों को रोकर इनकी डिलिवरी कराई।
श्रमिक एक्सप्रेस में अब तक 21 दिनों के भीतर 24 महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया है। कांति बंजारी से पहले मंगलवार को अहमदाबाद से बांदा के लिए रवाना हुई श्रमिक एक्सप्रेस में मधु कुमारी नाम की एक महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया था।
मधु से पहले जोधपुर से बस्ती के बीच चलने वाली एक ट्रेन में जुड़वा बच्चों को जन्म दिया। इनमें से एक बच्चे की मौत हो गई, जबकि दूसरे बच्चे और मां को बस्ती के अस्पताल में भर्ती कराया गया।
रेलवे अधिकारियों का कहना है कि श्रमिक एक्सप्रेस में महिलाओं को प्रसव पीड़ा होने पर कई महिलाओं के लिए ऐम्बुलेंस का इंतजाम कराया गया है। इसके अलावा रेलवे की टीमों ने समय रहते महिलाओं को अटेंड कर उनकी डिलिवरी भी कराई है,जिसके बाद उन्हें अस्पताल में शिफ्ट कराया गया है। रेलवे के आंकड़ों की माने तो जिन महिलाओं ने ट्रेनों में बच्चों को जन्म दिया है, उनमें 13 उत्तर प्रदेश, 4 बिहार और 2-2 ओडिशा और छत्तीसगढ़ की हैं।