एक समय था जब लोग महिलाओं के लिए बेहद संकुचित विचार रखा करते थे और उन्हें अपने से हमेशा कमतर ही समझा करते थे। अब वह समय इतिहास के पन्नों पर लिपटी धूल में सिमटकर रह गया है जब देश की महिलाएँ समाज और घर-परिवार रूपी बेड़ियों में कैद रहा करती थीं, और यहाँ तक कि खुद के पैरों पर खड़े होने की उनकी चाह घर की चौखट पर ही दम तोड़ दिया करती थी। समय का पहिए घूमने के साथ ही अब महिलाओं को वह एहमियत और तवज्जो मिलने लगी है, जिसकी वह अरसों से हकदार हैं। 

यह भी पढ़े : Vastu Tips : अगर कड़ी मेहनत करने के बाद भी सफलता नहीं मिल प् रही है तो इनमें से कोई एक उपाय करें


तमाम जंजीरों को तोड़कर आसमान में ऊँची उड़ान भरकर महिलाओं ने दिखा दिया है कि वह किसी से कमतर नहीं हैं, और ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जिसमें वह मिसाल कायम करने में अक्षम हैं। देश में सुचारु रूप से चलाए जा रहे अभियान 'आत्मनिर्भर भारत' की महिला भी आज आत्मनिर्भर है। सशक्तता की हर दिन नई परिभाषा गढ़ने वाली देश की महिलाएं अब खुद के पैरों पर खड़ी हैं। इस प्रकार, महिला दिवस के स्वागत के रूप में बुलंदी छूती कुछ महिलाओं ने स्वदेशी तथा बहुभाषी सोशल मीडिया मंच, कू ऐप के माध्यम से इस बात को स्वीकारा है कि हाँ, वे सशक्त हैं, वे आत्मनिर्भर हैं: 

यह भी पढ़े : Panjab Exit Polls : AAP पूर्ण बहुमत , सत्ता पर काबिज होंगे केजरीवाल? देखिए Exit Polls का महापोल


सूरत से केंद्रीय रेल और कपड़ा राज्य मंत्री तथा संसद सदस्य, दर्शना जरदोष अपने दम पर अपने पैरों पर खड़ी हैं। हाल ही में उन्होंने अपना कर्तव्य निर्वाहन करते हुए नई दिल्ली से यूक्रेन से आने वाले बच्चों का स्वागत किया तथा उन्हें दिलासा दी। इसके साथ ही उन्होंने मोदी जी को धन्यवाद देते हुए कहा है:

177 भारतीय छात्रों का एक समूह आज सुबह यूक्रेन से बुडापेस्ट, हंगरी होते हुए एक विशेष उड़ान से नई दिल्ली पहुँचा।

हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में #OperationGanga यह सुनिश्चित करना जारी रखे हुए है कि "कोई भी भारतीय पीछे न रहे!"

वहीं, भारतीय अदाकारा डेलनाज़ ईरानी ने भी महिलाओं के मनोबल को बढ़ाते हुए माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू ऐप के माध्यम से कहा है:

हर किसी के लिए एक उद्धरण, जो किसी चीज़ से गुज़र रहा है, याद रखें कि अँधेरे के अंत में प्रकाश है और आप जिस भी चीज़ से गुज़र रहे हैं, आप उससे ज़बूती से बाहर निकलेंगे!

सांस्कृतिक राजदूत, योग गुरु, संस्कृति दार्शनिक प्रतिष्ठा कू ऐप के माध्यम से महिलाओं से कहती हैं कि खुद के मालिक बनो, आत्मनिर्भर बनो, अपने पैरों पर खड़े हो और खुद से प्रेरणा लेकर जीवन में आगे बढ़ो:

अपने खुद के मालिक बनो!

#acharyapratishthaquotes #acharyapratishtha #quoteoftheday #yogathought #motivation #motivationalthought

गुजरात राज्य/बीसीसीआई बोर्ड की पेशेवर क्रिकेटर निकिता भुवा भी महिलाओं के लिए किसी मिसाल से कम नहीं हैं। कू ऐप के माध्यम से वह कहती हैं:

What a #win team #India

भारत को 114/6 पर मुश्किल में देखते हुए यह बहुत संतोषजनक लगेगा। 

#indvspak

#HummaraBlueBandhan

देश की तमाम महिलाओं के लिए एक प्रेरणा बन चुकी एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल ने सोशल मीडिया मंच कू ऐप पर महिलाओं को प्रेरित करते हुए कहा हैं: 

जो शोर मचाते है भीड़ में,

भीड़ ही बनकर रह जाते है,

वही पाते है जिन्दगी में सफलता

जो खामोशी से अपना काम कर जाते है.

#laxmi #laxmiagarwal

लक्ष्मी, जिंदगी की दर्दनाक लड़ाइयों से जूझकर डटकर सामने आईं और मुश्किलों को खुद से पीछे धकेलते हुए हर दम आगे बढ़ती रहीं। कई ज़ुल्मों को सहती हुईं आज वे इस मुकाम पर हैं कि शायद ही कोई शख्स होगा, जो उन्हें नहीं जानता होगा या उनकी आपबीती सुनने के बाद उनसे प्रेरित नहीं हुआ होगा। आज वे सबसे बेहतर समाज सुधारकों में से एक के रूप में पूरे देश में परचम लहरा रही हैं, इतना ही नहीं, देश की कई महिलाओं को प्रेरित करने का काम भी बखूबी कर रही हैं।