लुसाने। भारत की युवा हॉकी खिलाड़ी मुमताज खान को 'एफआईएच साल 2021-22 का उभरता हुआ महिला सितारा' पुरस्कार से नवाजा गया है। अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। एफआईएच ने बताया कि मुमताज ने बेल्जियम की शारलोट एंग्लेबर्ट को केवल तीन अंकों से हराया। मुमताज को वोटिंग के बाद कुल 32.9 अंक मिले जबकि एंग्लेबर्ट 29.9 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहीं। नीदरलैंड की लूना फोक (16.9 अंक) ने तीसरा स्थान हासिल किया। मुमताज ने जीत के बाद कहा, 'मुझे यकीन नहीं हो रहा कि मैंने यह पुरस्कार जीत लिया है। यह पिछले एक साल में पूरी टीम की मेहनत है, जो रंग लाई है। मैं अपनी जीत का श्रेय अपनी टीम को देती हूं। मुझे लगता है कि यह पुरस्कार इस बात का प्रमाण है कि मैंने पिछले एक साल में ट्रेनिंग ग्राउंड पर जो पसीना बहाया है, उससे मुझे एक बेहतर खिलाड़ी बनने में मदद मिली है।'

यह भी पढ़े :  नहीं देखी होगी ऐसी हिन्दू-मुस्लिम एकता , यहां की दुर्गा पूजा साम्प्रदायिक सौहार्द का संदेश देती है 

उन्होंने कहा, 'यह केवल मेरे करियर की शुरुआत है। मैं सीखने की प्रक्रिया को जारी रखूंगी और अपना खेल बेहतर करने के लिये मेहनत करती रहूंगी।' मुमताज ने अंतरराष्ट्रीय हॉकी के दरवाजे पर एफआईएच जूनियर महिला विश्व कप 2022 में दस्तक दी, जहां उनके खेलने के अनूठे तरीके और गोल करने की क्षमता ने सभी को आकर्षित किया। वह जूनियर विश्व कप के आठ मैचों में छह गोल करके भारत की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी रहीं। साथ ही वह विश्व कप में सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़यिों की सूची में भी तीसरे स्थान पर थीं। वह टूर्नामेंट में केवल नीदरलैंड के खिलाफ गोल करने में विफल रही थीं। 

ये भी पढ़ेंः जेल में बंद 218 मुस्लिम कैदियों ने विधि विधान से नवरात्रि व्रत रख पेश की सांप्रयादिक सौहार्द की मिसाल

मुमताज ने इंग्लैंड के खिलाफ कांस्य पदक मैच को 2-2 से ड्रॉ करवाने के लिये भारत के दोनों गोल किए, हालांकि टीम शूट-आउट में हार गयी। लखनऊ निवासी मुमताज ने अपने खेल करियर की शुरुआत एक ट्रैक एथलीट के रूप में की थी, जो उनके चुस्ती-फुर्ती भरे खेल में जाहिर भी होता है। उन्होंने विश्व कप में अपने ज्यादातर गोल अपनी रफ्तार की बदौलत ही किये थे। मुमताज हीरो एफआईएच हॉकी 5एस लीग 2022 में भी भारतीय टीम का हिस्सा थीं, जहां उन्होंने अपना हुनर दिखाते हुए चार मैचों में पांच गोल किये। लालरेम्सियामी (2019) और शर्मिला देवी (2020-21) के बाद मुमताज पुरस्कार जीतने वाली तीसरी भारतीय महिला हैं। इसी बीच, फ्रांस के टिमोथी क्लेमेंट को पुरुषों की श्रेणी में एफआईएच साल का उभरता हुआ सितारा नामित किया गया।