मंच मिले या ना मिले लेकिन कलाकार के जहन में हमेशा कलाकारी जिंदा रहती है। जिंदगी की भाग दौड़ में इंसान इतना ज्यादा व्यस्त हो जाता है कि उसका हुनर किसी कोने में द्फन हो जाता है और इंसान आगे तक यूंही जिंदगी  व्यतित करता रहता है लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो हुनर के बल पर ही पनी सारी जिंदगी काट देते हैं। कुछ ऐसा काम कर देते हैं जिसे दुनिया अजूबे से कम नहीं आंकती है। इसी तरह से तमिलनाडु के ऊटी मे भी कुछ ऐसा ही काम एक कलाकार ने किया है जिसकी दुनिया में वाही वाही हो रही है।


एक टॉयलेट किस काम आता है, जाहिर सी बात है कि रोजमर्रा के काम आता है लेकिन क्या हो अगर टॉयलेट हो और काम ही ना आए। ऊटी के कलाकारों ने मिलकर टॉयलेट को का ऐसा नक्शा बनाया की दुनियाभर से लोग इस टॉयलेट को देखने आते हैं। जी हां ऊटी के कलाकारों ने मिलकर टॉयलेट को आर्ट गैलरी में तब्दिल कर दिया, जहां पहले कोई नहीं आता था वहां अब टॉयलेट देखने के लिए भीड़ लगती है। इस आर्ट गैलरी का नाम द गैलरी वन टू है। बता दें कि लोकल म्युनिसिपलटी ने एक नया टॉयलेट बनाया और इस इमारत को गैलरी में तब्दील करने की अनुमति दी है।


इस टॉयलेट आर्ट गैलरी में कई खुबसूरत अंदर तस्वीरें लगाई गई हैं, जिन्हें देखने के लिए काफी लोग भी खड़े हैं। यहीं नहीं टॉयलेट की इस गैलरी में एक लाइब्रेरी भी बनाई गई है। जो लोकल लोगों के लिए बिलकुल फ्री है। जिन्होंने टॉयलेट को आर्ट गैलरी में और लाइब्रेरी में तब्दिल किया वो आर्ट वर्क आर. मणिवन्नन है। इनके इस प्रोजेक्ट का नाम “मेरे लोग नागा” है। इस गैलरी में नीलगिरी की पहाड़ियों में रहने वाले लोगों की बेहद खूबसीरत तस्वीरें हैं।