अकसर ऐसा देखा जाता है कि महिलाएं किन्हीं कारणों से जब मां नहीं बन पाती हैं तो बहुत निराश हो जाती हैं। वे तरह-तरह के नुस्खे आजमाती हैं, पूजा पाठ करती हैं और यहां तक कि पुजारी या मौलवी के पास भी पहुंच जाती हैं। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां एक महिला अपने बांझपन को दूर करने के लिए एक मौलाना के पास पहुंच गई। मौलाना ने उसे कहा कि हम सब ठीक कर देंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ और महिला के साथ मौलाना ने ऐसा कुछ किया कि उसकी सातवें दिन ही मौत हो गई।

दरअसल, यह घटना जर्मनी के बर्लिन की है। 'डेली स्टार' की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बर्लिन में रहने वाली एक 22 साल की एक महिला, जो मां नहीं बन पा रही थी, उसका इलाज एक मौलाना ने शुरू किया था। मौलाना ने महिला ने कहा कि उसके पेट में एक भूत है और उसी की वजह से वह गर्भधारण नहीं कर पा रही थी। इसलिए उस भूत को भगाया जाएगा। मौलाना ने कहा कि उस भूत के भागते ही वह मां बन जाएगी।

महिला मौलाना की बातों में आ गई और अपना इलाज शुरू करने की बात कहने लगी। रिपोर्ट के मुताबिक भूत भगाने के इस मामले में मौलाना के साथ उसके परिवार के तीन अन्य लोग भी शामिल थे। उन्होंने महिला का इलाज एक पानी के साथ शुरू किया। इस पानी में नमक भी मिला हुआ था। मौलाना ने महिला को बताया कि वह लगातार इस पानी का सेवन करे और इसी पानी से उसके बांझपन की समस्या दूर हो जाएगी।

रिपोर्ट के मुताबिक, महिला एक लेबनानी परिवार से आती है और उसकी पहचान नेसमा नाम से की गई है। मौलाना का नाम माजेन बताया गया है। नेसमा की मौत के बाद पुलिस ने मौलाना माजेन, महिला के पति सहित दो अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है। नेसमा की बॉडी के पोस्टमार्टम में पता चला कि नमक के पानी की वजह से उसके दिल, किडनी और दिमाग पर काफी असर पड़ा था।

फिलहाल इस मामले में पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मौलाना को जुर्माने के साथ जेल की सजा सुनाई गई है। जानकारी के मुताबिक, शादी के कुछ साल बाद भी महिला को बच्चा नहीं हुआ तो उसके ससुर और पति ने योजना बनाई कि उसे मौलाना के यहां भेजा जाएगा। इतना ही नहीं इस बात का अभी जिक्र किया गया है कि महिला को डॉक्टर के यहां भी नहीं ले जाया गया था।