कई लोग कुछ ऐसे काम कर जाते हैं, जो सामान्य इंसान सोच भी नहीं सकता। कुछ ऐसे ही लोगों में एक महिला भी शुमार है, जिसे जानवरों से अलग ही लेवल का प्यार है। वो अपने शरीर पर मरे हुए जानवरों की राख से टैटू बनवा लेती है और ये उसे उन एनिमल्स को याद रखने का तरीका लगता है। महिला अमेरिका के फ्लोरिडा में रहती है और उसकी उम्र 35 साल है। एलेक्ज़ेड्रा ऐश नाम की इस महिला को अलग ही जुनून सवार है, वो अपने मरे हुए पालतू जानवरों की राख से अपने शरीर पर टैटू बनवा लेती है। उसका ये शौक आम लोगों की सोच से परे ही है। उसके शरीर पर कुल 30 टैटू बने हुए हैं, जो उन्हीं जानवरों की राख से बनाए गए हैं, जिनकी मौत हो गई थी।

ये भी पढ़ेंः कार में बैठे सभी यात्रियों के लिए सीटबेल्ट लगाना अनिवार्य होगा : नितिन गडकरी

एलेक्ज़ेंड्रा Boca Raton में अपने पति माइकल इवांस के साथ रहती है। वे जब 18 साल की थीं तो वे बुरी तरह से ड्रग्स के जाल में उलझ गई थीं। 5 साल से वे इस आदत से मुक्ति पा चुकी हैं और उन्होंने अपनी ज़िंदगी जानवरों को बचाने और उन्हें पालने में डेडिकेट कर दी है। इसकी शुरुआत तब हुई, जब उनकी एक छिपकली मर गई। 18 साल की उम्र में उन्होंने उसका टैटू बनवाया। फिर उनकी पालतू बिल्ली और मेमने की मौत हो गई। उन्होंने उनकी राख को अपने दायें हाथ पर टैटू के ज़रिये हमेशा के लिए सेट करा दिया। इसके बाद जानवरों की मौत के बाद वे उनका टैटू राख के ज़रिये बनवा लेती थीं। मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक उनके हर टैटू के पीछे एक कहानी है।

ये भी पढ़ेंः पुणे में महिला की निर्मम हत्या, बेटे और पोते ने मिलकर मां के किए टुकड़े-टुकड़े

एलेक्ज़ेंड्रा साल 2019 से अपने शरीर पर इस तरह के राख वाले टैटू बनवा रही हैं। उन्हें ये आइडिया अपने एक दोस्त से आया था, जिसने अपने पेट का ऐसा टैटू बनवाया था। उन्होंने जानवरों से प्यार करना अपनी मां से सीखा, जिनके घर में कुत्ते, बिल्लियां और खरगोश रहा सकते थे। 14 साल की उम्र से ही उनके अपने पालतू जानवर थे, जिनमें बेबी ड्रैगन, छिपकलियां और ऐसे 18 जानवर थे। उनके घर में फिलहाल 50 से ज्यादा जानवर पले हुए हैं, जिसमें घड़ियाल, छिपकलियां, कछुए, गिलहरियां, बंदर और खतरनाक सांप और बिल्लियां भी शामिल हैं। साल 2018 में उन्होंने घऱ को Kinkatopia नाम की एनिमल सैंक्चुअरी में बदल दिया और उन्हें खासतौर पर किंकाजौ नाम के जंगली जानवर को पालने के लिए जाना जाता है।