एक महिला मौत के 2 घंटे बाद फिर जिंदा हो गई और अपने बेटे से बोली कि मुझे भी चाय पिलाओ। जी हां, यह तब हुआ जब एक महिलाओ की मौत के बाद अंतिम संस्कार की तैयारियां चल रही थी। इतने में अचानक से वो जिंदा हो उठी। अपनी आंखें खोली और आवाज लगाकर बोली-'बेटा अज्जू मुझे भी चाय पिला दे।'
यह अनोखा वाकया जोधपुर शहर के दधिमती नगर का है जहां एक बुजुर्ग महिला अचलेश्वर देवी के शरीर में परिवार ने जब कोई हलचल नहीं देखी तो उसे मृत मान लिया और परिजनों को सूचित कर बुला लिया। सुबह होने का इंतजार कर रहे थे।इस दौरान दो घण्टे बाद बुजुर्ग महिला ने आंख खुली और अपने बेटे से कहा अज्जू मुझे चाय पिला दे। यह सुनकर पूरा परिवार दंग रह गया। सभी उसके पास पहुंचे। उन्होंने आंखें खोली और फिर बन्द कर ली, लेकिन सांस चल रही थी और नब्ज चलने लगी।

लेकिन कुदरत का ये करिश्मा बस थोड़ी ही देर के लिए हुआ। दोबारा सांस चलने के बाद परिजन जैसे ही महिला को लेकर अस्पताल पहुंचे। तब तक उसकी मौत हो गई और जांच के बाद डॉक्टरों ने अचलेश्वर देवी को मृत घोषित कर दिया। निराश परिजन उन्हें वापस अपने घर ले आए और उसके बाद अंतिम संस्कार किया। बेटे हेमंत ने बताया कि मां को दो दिन पहले अटैक आया था, लेकिन धीरे-धीरे उनकी तबीयत में सुधार हो गया था।

बुधवार तड़के 4:00 बजे वह उठी और शौच को गई। उसके बाद वापस आकर पलंग पर लेट गईं। परिवार के सभी सदस्य जग रहे थे। कुछ देर बाद जब बेटे हेमंत ने आकर मां को टटोला तो शरीर ठंडा पड़ चुका था। सांस नहीं चल रही थी और नब्ज भी नहीं चल रही थी। इसके बाद हेमंत ने तुरंत नजदीक रहने वाले अपने रिश्तेदारों को सूचना दी। सभी मां को मृत मानकर पलंग से भी उतार लिया। करीब साढ़े 6 बजे अचानक हेमंत की मां ने आंख खोली और बोली कि अज्जू चाय पिला दे, लेकिन अस्पताल ले जाने के बाद डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।