पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया में एक अजीब मामला सामने आया। यहां एक पायलट अपने विमान को ऑटो पायलट मोड पर डाल कर सो गया। जी वाकई सो गया। ये पायलट एक मालवाहक विमान उड़ा रहा था। इस बारे में जानकरी तब हुई जब एयर ट्रैफिक विभाग ने पायलेट से संपर्क करने का प्रयास किया पर उसने उत्तर नहीं दिया। उस विमन में पायलेट अकेला और कोई दूसरा संभवत उसके साथ नहीं था। ये उड़ान तस्मानिया के डेवनपोर्ट शहर से बास स्ट्रेट के किंग द्वीप तक जा रही थी।


ट्रैफिक विभाग ने विमान को सुनिश्चित स्थान से आगे निकलते देख कर संपर्क करने का प्रयास किया था। पायलट के सोने के चलते विमान र्निधारित लैंडिंग प्वाइंट से करीब 46 किलोमीटर आगे निकल गय। हांलाकि बाद में विमान किंग द्वीप हवाई अड्डे पर सुरक्षित उतर गया लेकिन स्थानीय उड्यन विभाग और विमान की एयरलाइन वारटेक्स एयर ने पायलट के खिलाफ जांच के आदेश दे दिये हैं। वारटेक्स एयर इस मालवाहक पाइपर पीए 31 उड़ानकी पहचान उजागर नहीं की गई है।


वैसे मेलबर्न स्थित एयरलाइन बयान से मिली ये जानकारी कि पायलट विमान उड़ाते वक्त सो गया था ही अनोखी नहीं है। इससे पहले भी पायलट के अनोखे कारनामे लोगों को चौंका चुके हैं। जैसे सऊदी अरब में भी एक अनोखा मामला सामने आया था। यहां नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने रियाद हवाईअड्डे पर रनवे के समानांतर बने टैक्सीवे से उड़ान भरने पर जेट एयरवेज के दो पायलट का लाइसेंस निलंबित किया थ। सूत्रों के अनुसार मुंबई आ रहे उस विमान में 148 लोग सवार थे। हालांकि इस हादसे में भी जान माल का कोई नुकसान नहीं हुआ था। इस बारे में विमानन नियामक डीजीसीए ने बताया था कि रनवे पर अवरोध होने के चलते पायलट ने नजदीक के टैक्सीवे से उड़ान भरने का निर्णय ले लिया था।