भारत में ही एक ऐसी भी जगह है जहां शादी के तोहफे के तौर पर वर पक्ष को 21 सांप दहेज के रूप में दिए जाते हैं ताकि बेटियां महफूज रह सकें। आपने अपने घर या फिर आस-पास में देखा होगा कि लोग अपनी बेटियों की शादी में कर्ज लेकर कीमती सामान, सोने-चांदी के गहने और नकदी आदि दहेज के तौर पर वर पक्ष को देते हैं। कई बार बेटी की शादी के बाद लोग कर्ज के तले दब जाते हैं।

आपको जानकर खुशी होगी कि हमारे ही देश में एक जगह ऐसी भी है, जहां दहेज में महंगे सामान नहीं दिए जाते हैं, बल्कि खतरनाक जहरीले सांप दिए जाते हैं। ये सांप भी एक या दो नहीं, बल्कि पूरे 21 दिए जाते हैं।

यह प्रथा मध्य प्रदेश के गौरिया समुदाय के लोगों में निभाई जाती है। इस समुदाय के लोग अपनी बेटियों की शादी में दहेज के रूप में दूल्हे को 21 जहरीले सांप देते हैं। इनका मानना है कि अगर बेटी को दहेज में 21 खतरनाक सांप नहीं दिए गए तो बेटी की शादी टूट जाएगी या कोई अपशकुन हो जाएगा।

इस समुदाय में बेटी की शादी को सफल और उसके वैवाहिक जीवन को सुखमय बनाने के लिए सांपों को बतौर दहेज देते हैं। यह परंपरा सैकड़ों साल पुरानी है। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के गौरिया समाज के लोग दहेज में गेहुआ और डोमी प्रजाति के सांप देते हैं, जो बेहद जहरीले होते हैं। इनके एक बार काटने भर से इंसान की मौत हो सकती है।

गौरिया समाज के लोग पेशे से सांप पकड़ने का ही काम करते हैं, जिन्हें लोग सपेरा कहते हैं। दहेज में दिए जाने वाले ये 21 सांप ही उनकी आजीविका का साधन हैं। सांपों का खेल दिखाकर या किसी खास दिन सांप दिखाकर ही ये लोग पैसे कमाते हैं। ये सांप के जहर को बेचकर भी पैसे कमाते हैं। सबसे खास बात है कि शादी में दहेज के दिए जाने वाले सांप खुद लड़की का पिता ही पकड़ता है।
ऐसी मान्यता है कि बेटी की शादी तय होने के बाद बेटी का पिता सांप पकड़ने का काम शुरt कर देता है। इन्हीं सांपों को बेटी की शादी के दिन दहेज में दिया जाता है। इतना ही नहीं, अगर लड़की का पिता तय समय पर सांप न पकड़ पाए तो रिश्ता टूट जाता है।