ऐसा माना जाता है कि जिंदगी और मौत दोनों ऊपर वाले के हाथ में होती है। अगर इंसान का समय पूरा हो गया है तो कम उम्र में छोटे-मोटे हादसों में ही इंसान की मौत हो जाती है। लेकिन अगर किस्मत में सांसें लिखी है तो बड़े से बड़े हादसे के बाद भी जान बच जाती है। कोल ऑस्टिन ऐसी ही खुशकिस्मत थी। एक हादसे में इस स्टूडेंट की बॉडी दो हिस्सों में बंट गई थी। डॉक्टर्स ने उसके बचने के जीरो चान्सेस बताए थे। लेकिन कोल ने सभी को गलत साबित कर दिया। उसने ना सिर्फ मौत पर जीत हासिल की, बल्कि आज एक नॉर्मल इंसान की तरह वापस अपने काम पर जाना शुरू कर चुकी है।

ये भी पढ़ेंः आजादी का अमृत महोत्सवः ISRO ने 'आजादीसैट' लॉन्च कर बनाया रिकॉर्ड, स्पेस में लहराएगा तिरंगा

इंग्लैंड के फर्नेस में रहने वाली 21 साल की कोल जबरदस्त हादसे का शिकार हो गई थी। एक झूले से नीचे गिरने के बाद उसकी बॉडी लगभग दो हिस्सों में बंट गई थी। डॉक्टर्स ने कहा था कि उसके बचने के जीरो चान्सेस है। कोल ने 22 दिन कोमा में बिताए थे। इसके साथ ही कई सर्जरी से उसकी बॉडी गुजरी थी। लेकिन उसने सारी अड़चनों को पार किया और आखिरकार अब अपने पैरों पर खड़ी हो गई है। उसने ना सिर्फ दुबारा चलना सीखा बल्कि जिस डॉक्टर्स की टीम ने उसकी जान बचाई, उसी के साथ काम करने वाली है।

कोल के साथ ये हादसा पिछले साल अगस्त में हुआ था। झूले से गिरने के बाद उसके कमर के नीचे गहरी चोट आई थी। उसके राइट पैर में गहरे फ्रैक्चर हुए थे और उसकी कमर चटक गई थी। उसकी बॉडी अंदर से दो टुकड़ों में टूट गई थी। उसे तुरंत लंकाशायर के Royal Preston Hospital लाया गया था। वहां उसकी हालत देखने के बाद डॉक्टर्स ने उसके बचने के चांसेस जीरो बताए थे।

ये भी पढ़ेंः अगर आप भी टैटू बनवाने के है शौकीन तो पढ़ ले ये खबर , वाराणसी में दर्जनों युवा हुए एचआईवी पॉजिटिव, मचा हड़कंप


द मिरर के साथ बात करते हुए कोल ने बताया कि वो मेले में घूमने गई थी। इस दौरान वो झूले पर बैठी थी। तभी एक झटका लगा और वो नीचे गिर गई। जब वो उठी तब उसे कुछ याद नहीं था। उसे ये भी याद नहीं था कि वो मेले में गई थी वहां उसे ये लगा कि शायद उसके कार का एक्सीडेंट हो गया होगा। लेकिन वहां डॉक्टर्स ने उसे बताया कि वो कभी चल नहीं पाएगी। ये जानकर उसे लगा कि उसकी लाइफ खत्म हो गई है। लेकिन उस समय उसने डॉक्टर्स को गलत साबित करने की ठान ली। आज कोल ने वाकई डॉक्टर्स को गलत साबित कर दिया है और वापस अपने काम पर जाने की तैयार में है।