इंसान का हौसला और जज़्बा हर मुसीबत से कहीं ज्यादा बड़ा होता है। इंसान अगर खुद हिम्मत नहीं हारे, तो बुरी से बुरी परिस्थिति में कुछ अलग और अनोखा करके दिखा सकता है। कुछ ऐसे ही एक शख्स के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं, जिसकी खुद की सेहत अच्छी नहीं होने के बाद भी वो फंड रेज़िंग के लिए मैराथन दौड़ने को तैयार है।

यह भी पढ़े :  नहीं देखी होगी ऐसी हिन्दू-मुस्लिम एकता , यहां की दुर्गा पूजा साम्प्रदायिक सौहार्द का संदेश देती है 

डिवेन हलाइ नाम के शख्स को साल 2020 में ही फेफड़े की बीमारी का पता चला था और अब वे लंदन मैराथन में हिस्सा लेना चाहते हैं। इस दौरान वो अपना ऑक्सीज़न सिलेंडर लेकर दौड़ेंगे। उनका ये निर्णय सुर्खियां बटोर रहा है क्योंकि उनके फेफड़ों की स्थिति हर दिन के साथ बिगड़ रही है और वे दूसरों की मदद के लिए पैसे जुटाने जा रहे हैं।

लंदन के रहने वाले डिवेन की उम्र 37 साल है और वे साल 2020 में इंटरस्टीशियल लंग डिज़ीज़ से ग्रस्त पाए गए थे। उनके लिए सांस लेने में दिक्कत थी और फ्लाइट की सीढ़ियां तक चढ़ना उनके लिए मुश्किल था। वे पहले जहां हर वीकेंड पर 10-15 किलोमीटर दौड़ा करते थे, वहीं उन्हें चलने-फिरने में भी तकलीफ होने लगी। उन्हें अगस्त, 2021 में कीमोथेरेपी के बाद एक ऑक्सीज़न टैंक दिया गया, जिसे उन्हें हर वक्त अपने साथ रखना होता है। उनका हौसला ही है कि वो इस बात अस्थमा और लंग चैरिटी के लिए दौड़ी जा रही लंदन मैराथन में हिस्सा लेंगे।

ये भी पढ़ेंः जेल में बंद 218 मुस्लिम कैदियों ने विधि विधान से नवरात्रि व्रत रख पेश की सांप्रयादिक सौहार्द की मिसाल

हलाइ का कहना है कि वे ऐसा सिर्फ पैसे जुटाने के लिए नहीं बल्कि अपनी दौड़ने की क्षमता का टेस्ट लेने के लिए भी करना चाहते हैं। उन्होंने दूसरे मैराथन्स में हिस्सा लेकर अब तक £15,000 यानि 13 लाख 50 हज़ार रुपये इकट्ठा लिए हैं। अब वे ऑक्सीज़न टैंक बैकपैक के साथ इस मैराथन में दौड़ेंगे। उनके साथ रास्ते में 3 असिस्टेंट होंगे, जो इस टैंक को रीफिल करते रहेंगे। वे 8 घंटे तक दौड़ने का टार्गेट लेकर चल रहे हैं।