समुद्र की दुनिया बहुत ही अलग होती है। ये खूबसूरत (beautiful) भी है और खतरनाक भी है। बात करें मछलियों की तो यहां कई विभिन्नताएं हैं। इसी तरह से राक्षस प्रवृति वाली मछलियों की बात करें तो सबसे पहले शार्क का नाम दिमाग में आता है लेकिन आपको बता दें कि इससे भी खतरनाक एक मछली है जिसका नाम हैं लैंप्री।


इसे 'समुद्र वैम्पायर (sea vampire)'  भी कहते हैं। इसका काम केवल खून चूसना ही है। लैंप्री (lamprey) की अधिकतम लंबाई 40 इंच तक होती है और वजन 8 किलोग्राम से अधिक भी हो जाता है। इसकी पीठ का रंग नीला, काला और हरा होता है, जबकि इसके पेट का रंग आम तौर पर सुनहरा या सफेद होता है।
ये नदियों में रहना ज्यादा पसंद करती है लेकिन अंडे देने के लिए मीठे पानी में वापस आती है। इसे समुद्री मछली की श्रेणी में भी रखा जाता है। इस मछली की सबसे बड़ी पहचान उसका मुंह होता है, इसके मुंह में चारो तरफ दांत होते हैं, जो इसे अपना शिकार पकड़ने और उसका खून चूसने (suck blood) में सहयोग करते हैं।


यह एक बार में लगभग एक लाख अंडे देती है और उसके 36 दिनों के अंदर मर जाती है। उन अंडों की देखभाल मेल सी लैंप्री (lamprey) करता है। पर्यावरण के लिए जरूरी इस मछली के बारे में मान्यता है कि आज से लगभग 36 करोड़ साल पहले पहली बार इसका जन्म हुआ था।