उत्तर प्रदेश के महोबा जिले  से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जहां वर-वधु शादी के छह फेरे ले चुके थे और तब अचानक दुल्हन ने सातवां फेरा लेने से इनकार कर दिया और कहा कि मुझे शादी नहीं करनी है । जब परिवार वालों ने शादी ना करने की वजह पूछी तो लड़की ने कहा कि मुझे दूल्हा पसंद नहीं है।

जानकारी के मुताबिक, यह मामला महोबा जिले के मुंडारी  गांव का है, जहां  24 जून को झांसी के कुलपहाड़ से बारात आई। लड़की के घरवालों ने बरातियों का  स्वागत बड़े  आदर-सम्मान के साथ किया। शादी की सारी रस्में बहुत अच्छे से पूरी हो रही थी।  दोनों पक्ष शादी से काफी खुश नजर आ रहे थे।

इसके बाद पंडित जी के मंत्रोच्चार के   बीच दूल्हा-दुल्हन अग्नि के फेरे ले रहे थे।  छह  फेरे पूरे हो चुके हैं। तभी सातवें फेरे में दुल्हन रुक गई और परिजनों ने जब दुल्हन से रुकने का कारण पूछा तो उसने जवाब दिया कि मैं शादी नहीं करूंगी और गांठ  खोलकर अपने कमरे में चली गई है। यह बात सुनकर बराती और वधू पक्ष के लोग दंग रह गए। फिर दुल्हन के  माता पिता ने बेटी से शादी से मना करने का कारण तो लड़की ने जवाब दे दिया से दूल्हा पसंद नहीं है।

पूरी रात वर-वधू के लोगों के बीच पंचायत चली, जिसमें पूर्व प्रधान उमाशंकर मिश्र भी शामिल हुए। दोनों पक्षों को समझाया गया। पंचायत के दौरान दुल्हन को बुलाया गया लेकिन उसने दूल्हा पसंद न होने के कारण किसी भी कीमत पर शादी करने से इंकार कर दिया। जिसके बाद बारात दुल्हन के बिना ही लौट गई। लोगों ने कहा कि यदि लड़की को लड़का पसंद नहीं था तो पहले ही शादी से इंकार कर देना चाहिए था।