दुनिया में एक देश ऐसा भी है, जहां जेल में बंद कैदी खुद ही अपनी कब्र खोदते हैं। इस देश का नाम है उत्तर कोरिया। इसके अलावा यहां कैदियों के साथ कितना बुरा बर्ताव होता है, ये भी किसी से छिपा नहीं है, खासकर विदेशी कैदी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इन कैदियों से यहां जबरन मजदूरी करवाई जाती है।


कहते हैं कि उत्तर कोरिया की जेलों में बंद कैदियों को बेहद ही छोटे-छोटे सेलों में सुलाया जाता है उन्हें खाने के लिए चूहे और मेंढक दिए जाते हैं। इसके अलावा नियमित रूप से कैदियों की पिटाई की जाती है और 24 घंटे में करीब 12 घंटे उनसे कठोर श्रम करवाया जाता है।


साल 2012 में उत्तर कोरिया गए एक कोरियाई अमेरिकी शख्स केनेथ बे के पास से धार्मिक सामग्री से भरी हार्ड डिस्क मिली थी, जिसके बाद उन्हें 15 साल तक जबरन मजदूरी करने की सजा सुनाई गई थी। हालांकि खराब स्वास्थ्य के चलते साल 2014 में उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया था।

इसके अलावा साल 2016 में 22 वर्षीय अमेरिकी छात्र ओट्टो वार्मबियर को भी एक होटल का बिलबोर्ड चुराने की कोशिश के आरोप में 15 साल की कठिन मजदूरी करने की सजा सुनाई गई थी। हालांकि कुछ महीनों के बाद उन्हें भी रिहा कर दिया था, लेकिन वो कोमा में चले गए थे।



कहते हैं कि उत्तर कोरिया की जेलों में बंद कैदियों को अपनी ही कब्र खोदने के लिए मजबूर किया जाता है। इसके अलावा सजा के नाम पर उनके साथ दुष्कर्म भी होता है और कभी-कभी तो पीड़ित कैदी अचानक गायब भी हो जाते हैं, जिनका बाद में कोई पता नहीं चलता।


अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360