एक साधु की चार करोड़ रूपये की लॉटरी लगी तो उसने ये पैसे लोगों में बांट दिए। यह मामला थाईलैंड का है जहां एक बौद्ध भिक्षु यह परोपकार वाला काम कर रहा है। यह साधु स्थानीय लोगों, अन्य मंदिरों और विभिन्न संगठनों को ये पैसे दान कर रहा है। देश के उत्तरी प्रांत नखोन फनोम के इस 47 वर्षीय साधु का नाम फ्रा क्रू फनोम है, जो कि Wat Phra That Phanom Woramahawihan नाम के एक मंदिर के सेक्रेटरी भी हैं।

यह भी पढ़ें : यूक्रेन की तरह मणिपुर में फटने वाले थे बम, AssamRifles ने नाकाम किया आतंकियों का हमला

आपको बता दें कि मॉन्क फनोम ने हाल ही में 4 करोड़ रुपये से अधिक की लॉटरी जीती है जिसके पैसे को अब वो दान कर रहे हैं। उनका कहना है कि वह आमतौर पर लॉटरी टिकट नहीं खरीदते हैं क्योंकि भिक्षुओं को किसी भी प्रकार के जुए में शामिल नहीं होना चाहिए। लेकिन कुछ दिन पहले उन्होंने एक स्थानीय दुकानदार की मदद के लिए एक लॉटरी टिकट खरीदा था। दुकानदार कोरोना महामारी के दौरान आर्थिक रूप से संघर्ष कर रहा था।

फनोम का मानना ​​​​है कि उन्होंने जो पैसा जीता वह स्वर्गदूतों का है और वह इसे अपने लिए नहीं रखना चाहते थे। इसलिए लॉटरी में जीते पैसों को उन्होंने दूसरों को बांटने का फैसला किया। इसके बाद उन्होंने हजारों स्थानीय लोगों को 500-550 रुपये दान करना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें : इस राज्य के मुख्यमंत्री ने दिखाई हिम्मत, पूरे विधायकों के साथ देखी The Kashmir Files

पैसे दान करने के ऐलान के बाद मॉन्क के पास लोगों की लाइन लग गई। हजारों की संख्या में लोग मंदिर आने लगे। अब आलम ये है कि प्रांतीय अधिकारी भीड़ की निगरानी कर रहे हैं और भीड़ के बीच कोविड नियमों का पालन भी करवा रहे हैं। मॉन्क ने अब तक क्षेत्र के स्थानीय लोगों को कुल 1.5 मिलियन baht (34 लाख) दान दिए हैं। उनका कहना है कि वह सारा पैसा ( 4 करोड़) दान में देंगे।

मॉन्क फनोम ने थाई मीडिया को बताया कि स्वर्गदूतों ने उसे आशीर्वाद दिया कि वो लॉटरी जीते और लोगों की मदद करे क्योंकि वह 10 वर्षों से मंदिर की देखभाल कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि वो लॉटरी ड्रा से तीन दिन पहले 061905 नंबर वाले तीन लॉटरी टिकट लाए थे। खुद विक्रेता ने उनसे लॉटरी टिकट खरीदने में मदद करने के लिए कहा था।

हालांकि, ये पहला मौका नहीं है जब किसी मॉन्क ने लॉटरी जीती, समय-समय पर थाई मीडिया में भिक्षुओं के लॉटरी जीतने की खबरें आती रहती हैं। फिलहाल इतनी मोटी रकम दान करने पर लोग इस बौद्ध भिक्षु की तारीफ कर रहे हैं।