इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (आइजीआइएमएस) में गैस्ट्रो सर्जरी विभाग ने रेयर बीमारी का ऑपरेशन किशोरी के पेट से 750 ग्राम के बालों एवं जूट के धागे का गुच्छा निकाला है। चिकित्सा अधीक्षक सह गैस्ट्रो सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. मनीष मंडल ने बताया कि छपरा के गरखा निवासी किशोरी रेपुंजल नामक बीमारी से ग्रसित थी। बीते शुक्रवार को वह आइजीआइएमएस में पेट में दर्द व पेट में गांठ एक महीने से डॉ. राकेश कुमार सिंह गैस्ट्रो सर्जरी विभाग के ओपीडी में दिखाई, जहां डॉक्टरों ने इंडोस्कोपी कराने की सलाह दी।

जांच के दौरान उसके पेट में केवल बाल ही बाल नजर आ रहे थे। खाने के नली से पाइप आगे नहीं बढ़ पाई। रिपोर्ट में ट्राइकोबेजोआर आया। इसके बाद कोरोना व अन्य जांच कराई गई। शुक्रवार की सुबह गैस्ट्रो सर्जरी विभागाध्यक्ष सह एमएस डॉ. मनीष मंडल के निर्देशन में ऑपरेशन हुआ। इसमें लगभग 750 ग्राम बाल एवं जूट का धागा निकला। पेट के अंदर खाने की थैली के आकार का बालों का गुच्छा था। इससे सटे हुए गुच्छा छोटी आंत में जूट के बोरे का पार्ट था। जो बाल की चोटी के सामान लगभग डेढ़ फीट तक घुसा हुआ था। 

आइजीआइएमएस में गैस्ट्रो विभागाध्यक्ष डॉ. मनीष कुमार मंडल के नेतृत्व में दो घंटे के मेहनत पर सफल ऑपरेशन किया। टीम में डॉ. राकेश कुमार सिंह, डॉ. मनीष कुमार, डॉ. राकेश कुमार, डॉ. ओम प्रकाश भारती, निश्चेतना विभाग के डॉ. संजीव कुमार, डॉ. तुलिका, डॉ. सन्नी के साथ सिस्टर मधु ने दो घंटे के अथक प्रयास के पास सफल ऑपरेशन किया। मरीज स्वस्थ्य है। सभी से बातचीत कर रही है।