ब्रिटिश कंपनी Invisibility Shield Co ने ऐसा कवच बनाया है, जिसकी आड़ लेने पर कोई भी इंसान दिखाई नहीं देता है। जबकि जहां ये शील्ड लगाई जाती है उसके पीछे का बैकग्राउंड दिखता है। यानी आप उस शील्ड के पीछे दिख रहे बड़े नजारे में गायब हो चुके होते हैं। यह एक कमाल की तकनीक है जिसको इनविजिबल शील्ड नाम दिया गया है।

यह भी पढ़ें : सबसे पुराने कृषि उत्सव 'पोंग्टु' पर राज्यपाल ने दी अरुणाचल को बधाई, दिया ये संदेश

Invisible Shield यानी अदृश्य कवच। यह कवच हाई रेजोल्यूसन इनविजिबिलिटी प्रदर्शित करता है। इसके पीछे रोशनी के परावर्तित होने का विज्ञान है। इसमें हैरानी की बात ये है कि इस शील्ड को बनाने वाली कंपनी अब भी क्राउडफंडिंग वाली स्टेज में है, लेकिन उसने इतना बड़ा कमाल कर दिखाया।

इनविजिबल शील्ड असल में एक पारदर्शी दिखने वाला प्लास्टिक पैनल है, जिसे किसी भी तरह से बाहरी ऊर्जा या इलेक्ट्रिक चार्ज की जरूरत नहीं होती। दुनिया में अदृश्य करने वाली अन्य तकनीकों में लगे ताकतवर और जटिल ऑप्टिकल लेंस के बजाय यह चालाकी से रोशनी को रिफ्लेक्ट करता है। जिससे इसके पीछे खड़ा व्यक्ति गायब हुआ महसूस होता है।

यह भी पढ़ें : कर्नाटक और मणिपुर के बाद कांग्रेस का उत्तराखंड में बड़ा फेरबदल, इस नेता को बनाया अध्यक्ष

Invisible Shield दिखने में तो पारदर्शी दिखता है, लेकिन यह इसके पीछे खड़े इंसान की बेहद धुंधली तस्वीर दिखाता रहता है। हालांकि, इसके पीछे खड़े इंसान का कपड़ा और रोशनी की स्थितियां इस धुंधलेपन को पूरी तरह से पारदर्शी भी बना सकती हैं। इसे बनाने वाली कंपनी का दावा है कि आप शील्ड के पीछे खड़े इंसान को चाहे 5 मीटर से देखो या फिर 100 मीटर दूर से, आपको इसके पीछे का इंसान नहीं दिखेगा।

आपको बता दें कि यह शील्ड विज्ञान के लेंटीकुलर प्रिंटिंग तकनीक पर काम करता है। ये थ्री डायमेंशनल तस्वीरों की तरह है, जो आप किसी एंगल से देखते हैं, तो कुछ दिखता है, दूसरे एंगल से कुछ और। कंपनी ने द किकस्टार्टर नाम की साइट पर लिखा है कि असल में शील्ड स्टीकता से इंजीनियर्ड लेंस का एरे है। यह ज्यादातर रोशनी को देखने वाले की नजर की रेखा से दूर भेजती है। यह रोशनी को दाएं-बाएं ओर रिफलेक्ट करती है। इससे सामने मौजूद इंसान दिखता नहीं है।