दुनियाभर में नई-नई तकनीकों के जरिए तेजी स विकास हो रहा है, लेकिन इस विकास का बुरा असर पशु-पक्षियों पर पड़ता है। हालांकि कई देशों में जीव-जंतुओं का काफी ख्याल भी रखा जाता है। इसी को देखते हुए चीन के गुआंगदोंग प्रांत के जिआंगमेन में दुनिया का पहला हाई स्पीड रेल नॉइज बैरियर बनाया गया है।


पूरे बैरियर की लंबाई दो किलोमीटर है। इस बैरियर को 355 किलोमीटर लंबे जिआंगमेन-झांजिआंग हाई स्पीड रेलवे ट्रैक पर तैयार किया गया है। दरअसल, इस बैरियर को तैयार करने का मकसद 30,000 पक्षियों को बचाना है। रेल नॉइज बैरियर से वेटलैंड की दूरी 800 मीटर है। यहां एक छोटा सा टापू तैयार किया गया हुआ है, जहां एक विशाल बरगद का पेड़ मौजूद है, जिस पर सैकड़ों पक्षियों के घोंसले मौजूद हैं।


जब इसके करीब ट्रैक बनाने की तैयारी हो रही थी लोगों ने इसका विरोध किया और कहा कि रेलगाड़ियों का शोर पक्षियों के लिए खतरा है। इसका हल निकाला जाए। इस बैरियर को तैयार करने में तीन साल लग गए और 192 करोड़ रुपये की लागत लगी है। तीन साल में बने इस हाई स्पीड रेल नॉइज बैरियर में 42260 नॉइस एब्जॉवर्स लगाए गए हैं। इसे इस तरह डिजाइन किया गया है कि यह लंबे से समय तक टिका रहे। तकनीकी विशेषज्ञों के मुताबिक, इस बैरियर की उम्र 100 साल है। इस पर चक्रवात का भी असर नहीं पड़ेगा।


शोधकर्ता इससे आए बदलावों को जानने के लिए वेटलैंड के पास बने ट्रैक पर गए। उन्होंने पाया कि यह बैरियर इतना कारगर था कि इसने रेलगाड़ियों की आवाज को 0.2 डेसीमल तक सीमित कर दिया था।