दुनिया में कई ऐसी परपंराएं हैं जहां खौफनाक काम किए जाते हैं और लोग उस काम को करने से कतराते भी नहीं है। इस तरह की हैरान कर देने वाली परपंराएं आदिवासियों (tribes) में होती है। इसी तरह से एक जनजाती है सकी दिल को दहला देने वाली परंपरा है। यहां पति (Husband) की मौत के बाद उसकी बीवी के शुद्धिकरण करने के नाम पर उसे पति (Husband) की लाश के साथ अकेले सुलाते हैं।

साथ ही प्रथा के मुताबिक महिला को कल्पना करनी होती है कि वह अपने पति को प्यार कर रही है। जनजाती का मानना है कि मृतक पति (Husband) की आत्मा (Soul) को मुक्ति मिलती है और इसके बाद महिला (Woman) का शुद्धिकरण हो चुका है और वह दोबारा शादी कर सकती है। अगर पत्नि इस रस्म को पूरा ना करने के लिए इनकार कर देती है तो उसके साथ बहुत बुरा सलूक किया जाता है।

लुओ जनजाति (Luo tribe) में पति-पत्नी के बीच झगड़ा होता है तो महिलाएं अपने पति को छड़ी से नहीं मार सकतीं अगर ऐसा हुआ तो इसके बाद एक खास अनुष्ठान कराया जाता है। ये अनुष्ठान घर-समाज के बड़े बुजुर्ग कराते हैं। अनुष्ठान के दौरान पति-पत्नी को एक हर्बल ड्रिंक  (herbal drink ) पिलाया जाता हैैं। इस ड्रिंक को 'मान्यसी' (Mansi) कहा जाता है।


इसके बाद दोनों को सेक्स करने के लिए कहा जाता है। इसके पीछे मान्यता है कि ऐसा करने के बाद पति-पत्नी के बीच जो तनाव हुआ था वो खत्म हो जाएगा। जहां आज के दौर में एक से अधिक शादी को ज्यादातर सभ्य देशों में कानून अपराध माना जाता है वहीं लुओ जनजाति आज भी इससे अनजान है. यही वजह है कि लुओ जनजाति (Luo tribe) में एक से अधिक शादी का चलन आज भी है।