हर संप्रदाय के अलग-अलग रीति-रिवाज होते हैं। कई बार उन अजीब रीतिरिवाजो को जानकार हम हैरान हो जाते है। लेकिन उन व्यक्तियों को यह अजीब बातें बिलकुल भी अलग नहीं होती हैं, क्यो की उनके लिए तो, उनकी संस्कृति का एक अहम हिस्सा होता हैं।


आज हम आपको एक ऐसी ही अजीब परंपरा के बारे मे बताने वाले है, जिसे जानकार आप हैरान रह जाएंगे। राजस्थान के कुछ इलाकों में जब परिवार मे बहू गर्भवती होती है, तो उसकी देखभाल करने के बजाय पति दूसरी शादी कर लेता है।


कोई पति अपनी पत्नी के गर्भवती होने पर खुशिया मनाता हैं, और अपने बच्चे के जन्म के सपने देखने हुये पत्नी की सेवा करने लग जाता हैं। लेकिन यहा मामला थोड़ा अलग हैं।


लड़कियो को भी इस बात की जानकारी होती है की जिस दिन वह गर्भवती हुई तो, उनकी सौतन का आना निश्चित हैं। देश के एक प्रांत में यह अनोखा रिवाज काफी प्रचलित हैं। इस तरह की अजीब प्रथा राजस्थान के बाड़मेर ज़िले में देरासर नाम गांव मे होती हैं। यहा पर पानी की काफी किल्लत है, घर की महिलाओ को तपती गर्मी हो या भीषण सर्दी पूरा-पूरा दिन पानी की खोज में मीलों भटकना पड़ता है।


महिलाओ के लिए पानी लाने का ये सफर आसान नहीं होता। यहा बचपन से ही लड़कियों को पानी ढ़ो कर लाने के बारे मे सिखाया जाता है, ताकि शादी के बाद दो-तीन घड़े ढ़ो कर पानी ला सके। गर्भवती महिलाओ के लिए इतनी मुश्किल से पानी लाना वह भी इतने बाजन के साथ खतरे का काम है। जिसके लिए इस गांव में लड़कियों के गर्भवती होते ही पति दूसरी शादी कर नई दुल्हन ले आते है, ताकि दूसरी पत्नी पानी लाने की ज़िम्मेदारी के साथ पहली पत्नी का ख्याल भी रख सके।