उत्तर प्रदेश के ओरैया जिले में एक बारात दुल्हन के घर तक पहुंच चुकी थी और दूल्हा शादी के लिए लिए तैयार था। हालांकि अचानक से दुल्हन ने शादी के लिए मना कर दिया। आखिरी क्षणों में शादी से मना करने का कारण दूल्हे की कमजोर आंखें थीं। दुल्हन ने जब उससे बिना चश्मे के अखबार पढ़वाया तो वो एक अक्षर तक नहीं पढ़ सका। इससे नाराज दुल्हन ने शादी से इनकार कर दिया।

जमालपुर के रहने वाले अर्जुन सिंह ने अपनी बेटी अर्चना की शादी बंशी गांव के शिवम से तय की थी। सिंह ने अपनी बेटी के लिए एक 'पढ़ा लिखा लड़का' ढूंढा था। जल्द ही शादी की तारीख तय हो गई और सभी तैयारियां की जाने लगी। एक शगुन कार्यक्रम भी आयोजित किया गया और जिसमें दुल्हन के घरवालों ने दूल्हे को एक मोटरसाइकिल दी। 

शादी के दिन शिवम बारात के साथ अर्चना के घर पहुंचा। इस दौरान उसने हर समय चश्मा लगाए रखा। जिसे देखकर दुल्हन को लगा कि शिवम की आंख कमजोर है। जिसकी पुष्टि के लिए उसने दूल्हे को बिना चश्मे के अखबार पढ़ने के लिए कहा। जब दूल्हा बिना चश्मे के अखबार नहीं पढ़ सका तो अर्चना ने शादी करने से इनकार कर दिया। वह ऐसे व्यक्ति से शादी नहीं करना चाहती थी, जिसकी आंखें कमजोर हों। अर्चना के परिवार ने भी उसका साथ दिया और आखिरी वक्त में शादी से इनकार कर दिया। 

दुल्हन के परिवार ने दहेज के रूप में दी गई नकदी और मोटरसाइकिल वापस देने की मांग की है। साथ ही शादी पर किया गया खर्चा भी वापस मांगा है। हालांकि दूल्हे के परिवार ने इससे इनकार कर दिया है। इसके बाद दुल्हन के परिवार वालों ने ओरैया कोतवाली में दूल्हे और उसके रिश्तेदारों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।