कानपुर में इत्र कारोबारी पीयूष जैन के यहां आयकर विभाग की छापेमारी दूसरे दिन भी जारी है. छापेमारी के दौरान आयकर विभाग को इतना कैश मिला किया इनकम टैक्स विभाग के अधिकारियों की आंखें फटी रह गई. विभाग को पीयूष जैन के घर में कई अलमारियों में नोट भरे मिले हैं, जिसे गिनने में टीम को कई घंटे लग गए हैं. पीयूष जैन के घर पर नोटों के बंडल का अंबार लगा हुआ है. छापेमारी के दौरान मिले कैश की गिनती के लिए SBI अधिकारियों का सहयोग लिया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक कैश इतना ज्यादा था कि बैंक से नोट गिनने की मशीनें मंगवानी पड़ी.

पीयूष जैन मूलरूप से कन्नौज के छिपत्ती के रहने वाले हैं और वर्तमान में जूही थानाक्षेत्र के आनंदपुरी में रहते हैं. पीयूष इत्र कारोबारी है और इनकी फैक्ट्री कन्नौज की इत्र वाली गली में स्थिति हैं. वहीं से पीयूष जैन अपना कारोबार चलाते हैं. इनके कन्नौज, कानपुर के साथ मुंबई में भी ऑफिस हैं. कन्नौज स्थित फैक्ट्री से इत्र मुंबई जाता है. यहां से इत्र पूरे देश और विदेश में बेचा जाता है. इनकम टैक्स विभाग को पीयूष जैन की करीब 40 कंपनियां की जानकारी मिली है, जिनके माध्यम से पीयूष अपना इत्र कारोबार चला रहे थे. आज भी कानपुर की ज्यादातर पान मसाला यूनिट, पान मसाला कम्पाउंड पीयूष जैन से ही खरीदती है.

रिपोर्ट के मुताबिक, इत्र कारोबारी पीयूष जैन के कानपुर और कन्नौज में घर के अलावा कन्नौज में परफ्यूम फैक्ट्री, कोल्ड स्टोर, पेट्रोल पंप हैं. मुंबई में पीयूष का घर, हेड ऑफिस और शोरूम भी है. जैन की कंपनियां मुंबई में भी रजिस्टर हैं. अधिकारियों के मुताबिक, पीयूष जैन के पास लगभग 40 कंपनियां हैं, जिनमें से 2 मिडिल ईस्ट में हैं. जैन के मुंबई के शोरूम से परफ्यूम पूरे देश और विदेश में बिकता है.छापेमारी में इत्र कारोबारी के घर से पकड़े गए 150 करोड़ रुपए की ज्यादा की रकम को बेहद महफूज रखा गया था. आनंदपुरी के पूरे घर को किले में तब्दील किया गया था. छत से लेकर बाहरी दीवार पर कटीली फेंसिंग लगाई गई है।

इसके अलावा मेन गेट से लेकर सभी खिड़कियों में स्टील की मोटी ग्रिल लगाई गई है. घर के अंदर की किसी भी एक्टिविटी को कोई देख न सके, इसके लिए पूरे घर की खिड़कियों में काले शीशे लगाए गए हैं. घर में करोड़ों रुपए रखे होने के चलते कारोबारी पीयूष जैन ने घर के मेन गेट पर डबल दरवाजे लगवाए हैं. पूरे घर और छत पर भी कटीली फेंसिंग लगाई गई है. रात में फेंसिंग में करंट भी दौड़ाया जाता था, जिससे कि कोई चोर घर के अंदर न घुस सके।

पीयूष जैन कानपुर के नामी इत्र व्यापारी हैं. पीयूष के समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से काफी अच्छे संबंध हैं. पीयूष जैन ही वह शख्स हैं, जिन्होंने समाजवादी परफ्यूम को लॉन्च किया था. गुरुवार को आयकर विभाग की टीम ने पीयूष जैन के मुंबई, कन्नौज, गुजरात और कानपुर के ठिकानों पर छापेमारी की. खबर है कि इन छापों में अब तक 150 करोड़ रुपये का कैश बरामद हुआ है.

पहले ये छापा अहमदाबाद की DGGI यानी GST इंटेलिजेंस महानिदेशालय की टीम ने डाला था, लेकिन जब पीयूष जैन के यहां नोटों का अम्बार मिलने लगा तो इनकम टैक्स की टीम को शामिल कर लिया गया. दरअसल अहमदाबाद के अधिकारियों ने एक पान मसाला मैन्युफैक्चरर और एक ट्रांसपोर्टर यहां भी छापेमारी की. ट्रांसपोर्टर ईवे बिल जनरेट किए बिना, फर्जी इनवॉइस के जरिए सामान ट्रांसपोर्ट कर रहा था और कर चोरी कर रहा था.

इनकम टैक्स विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक पीयूष जैन के घर से करीब-करीब 150 करोड़ की वसूली हो चुकी है. एसबीआई अधिकारियों के सहयोग से करेंसी नोटों की गिनती का सिलसिला अभी भी जारी है. यह कल सुबह तक समाप्त हो सकता है. विभाग ने बताया कि गिनती समाप्त होने के बाद ही रकम की सटीक जानकारी दी जा सकेगी.