अभी तक दुनिया में इंसानियत बाकी है जिसके कई उदाहरण आपने देखें होंगे लेकिन हाल ही में एक ऐसा वाकया सामने आया है जिसके बारे में जानकर हर किसी का दिल उद्वलित हो उठेगा। जी हां, एक परिवार ने आवारा कुत्तों की मदद करने के लिए अपना पुश्तैनी घर बेचा और उनके लिए रेस्क्यू सेंटर खोल दिया। इस काम के लिए पूरे परिवार के सदस्य एकमत थे।

यह घटना राजस्थान के माउंट आबू की है। यहां रहने वाली ज्योति खंडेलवाल ने अपना पुश्तैनी घर इसलिए बेच दिया ताकि आवा कुत्तों की मदद की जा सकते। इससे इससे मिले पैसे से ज्योति ने रेस्क्यू सेंटर भी खोला। यहां वो घायल कुत्तों का ट्रीटमेंट भी करते हैं। हालांकि ज्योति ने ऐसा क्यों कि इसके पीछे घटना है। यह बात चार वर्ष पहले की है जब ज्योति के घर के पास कुछ आवारा कुत्तों के बच्‍चे ठंड की वजह से रो रहे थे। 

यह वाकया देखकर ज्योति से रहा नहीं गया और वो उन्हें अपने घर ले आई। इसके बाद उन्होंने आवारा कुत्तों की सेवा का काम शुरू कर दिया। रेस्क्यू सेंटर भी खोल लिया। इस काम में ज्योति के परिवारवालों ने भी उनका साथ दिया। फिलहाल उनके रेस्क्यू सेंटर में 60 से ज्यादा डॉगी हैं। जिस घर में फैमिली फिलहाल रहती है वहीं ऊपर के फ्लोर पर कुत्तों को रखा गया है। हब उन्होंने पीपल्स सेंटर फॉर स्ट्रीट डॉग नाम से एक एनजीओ का रजिस्ट्रेशन भी करवा लिया है। उनके भाई निहेश खंडेलवाल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट है जो भी भी कुत्तों का ध्यान रखते हैं।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360