क्या आपने कभी शादी में दुल्ले के रूप में किसी कुत्ते और दुल्हन के रूप में कुतिया को देखा है। जाहिर है आपका जवाब नहीं होगा। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी ही शादी के बारे में बताएंगे। जी हां मध्यप्रदेश के निवाड़ी जिले से एक ऐसा ही मामला सामने आया है।

दरअसल, मध्यप्रदेश के निवाड़ी जिले में एक अजीबो-गरीब शादी हुई है। जो इन दिनों सुर्खियों में है। बता दें कि निवाड़ी जिले के पुछीकरगवा गांव में दो मूक जानवरों की हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार शादी हुई है। यह शादी कोई साधरण तरीके से नहीं हुई बल्कि इस शादी में हर वो रीति- रिवाज और रस्म हुई है जो एक आम शादी में होती है।

निवाड़ी जिले के ग्राम पुछीकरगुआ निवासी मूलचंद नायक ने अपनी रश्मि नाम की कुतिया की शादी उत्तर प्रदेश के बकवा खुर्द निवासी अशोक यादव के गोलू नाम के कुत्ते के साथ कराई है। दिलचस्प बात यह है कि इस शादी में बाकायदा 800 लोगों को भोज कराया गया है। साथ ही देर रात धूमधाम से बैंड बाजे एवं आतिशबाजी करते हुए मध्य प्रदेश के गांव पूछीकरगुआ में बारात पहुंची जहां हिंदू रीति रिवाज अनुसार जयमाला कार्यक्रम करवाया गया। 

इस विवाह में जयमाला, सात फेरे से लेकर विदाई तक हर रस्म को बड़ी धूम-धाम और रीति-रिवाज के साथ मनाया गया। इसके अलावा इस शादी में आम शादियों की तरह जमकर नाच-गाना भी हुआ। दिलचस्प बात यह है कि सारे रीति-रिवाज होने के बाद नम आंखों के साथ रश्मि की विदाई की गई। 

ग्राम वासियों की मानें तो बताया जा रहा है कि पुछीकरगुवा गांव के लोग काफी समय से पानी की किल्लत से जूझ रहे हैं। इस समस्या के निवारण के लिए  उन्होंने कुत्ते और कुतिया की शादी कराने का फैसला लिया। गांव वालों का मानना है कि ऐसा करने से इंद्रदेव खुश हो सकते हैं और हमारी पानी की किल्लत दूर हो जाएगी।