हर देश के लोग अगल-अलग तरीके के जानवर पालना पसंद करते हैं। हमारे देश के हर इलाके में भी लोग अपने वातावरण के मुताबिक जानवर पालना पसंद करते हैं। भारत में एक ऐसा जगह है जहां के लोग जानवर के रूप में सांपों को पालना पसंद करते हैं। ये सांप भी कोई साधारण नहीं होते बल्कि ये बेहद खतरनाक सांप होते हैं।


बता दें कि दुनिया में केवल हमारा देश ही ऐसा है जहां देवी-देवताओं के साथ-साथ जीव-जंतुओं की भी पूजा की जाती है। जिनमें से एक सांप भी है। बता दें कि भारत में प्राचीन काल से ही सापों की पूजा की जाती रही है। सांप भगवान शिव का एक रूप माना जाता है लेकिन फिर भी आम तौर पर लोगों को सांप को पालते किसी ने नहीं देखा होगा।


इस सबके बावजूद एक जगह ऐसी भी है जहां लोग अपने घरों में गाय, भेड़, बकरी, भैंस और कुत्ता नहीं बल्कि जहरीले कोबरा सांप पालते हैं। ये बात सुनकर आपके भले ही आश्चर्य हो रहा हो, लेकिन बात एकदम सच है। दरअसल, महाराष्ट्र के सोलापुर जिला में एक गांव ऐसा है जहां लोग सांपों के साथ दोस्तों जैसा व्यवहार करते हैं।

 
यहां के हर घर में कम से कम एक कोबरा सांप जरूर पाला जाता है। इस गांव का नाम है शेतफल। शेतफल गांव के लोग कोबरा सांप को पालना पसंद करते हैं। यहां के लोग सांपों की बिल्कुल कुत्ते या बिल्ली की तरह ही परवरिश करते हैं।


बता दें कि ये सांप इस गांव के किसी शख्स को कोई हानि नहीं पहुंचाते। हर साल इस अनोखे गांव को देखने सैकड़ों लोग आते हैं। बताया जाता है कि इस गांव में आजतक किसी को सांप ने नहीं काटा। शेतफल गांव के लोग सांपों की पूजा करते हैं। इस गांव में सांपों के कई मंदिर भी मौजूद हैं।


यही वजह है कि इस गांव में कभी किसी सांप को मारा नहीं जाता। शेतफल गांव के लोगों का कहना है कि शायद इसीलिए आज तक किसी को यहां सांप ने नहीं काटा। यहां के स्कूल, कॉलेज के अलावा पब्लिक प्लेस पर भी सांप घूमते दिखाई देना बिलकुल आम बात है। यहीं नहीं इस गांव के छोटे बच्चे भी सांपों के साथ खेलते हैं। शेतफल गांव में मकान पक्का हो या कच्चा, हर घर में सांपों के रहने के लिए जगह बनाई जाती है। यहां अधिकतर घर कच्चे हैं, लेकिन घरों की छत पर छेद में सांपों के बैठने के लिए जगह होती है।