आज कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से दुनियाभर के कई लोग प्रभावित हैं। वहीं शोधकर्ताओं का कहना है कि कैंसर पिछले कुछ सदियों पुराना नहीं है बल्कि 66 मिलियन साल पहले भी हर जिंदगियों के लिए खतरा था। इजरायल के शोधकर्ताओं को डायनासोर के जीवाश्मों में कैंसर के लक्षण मिले हैं।


एसडब्लूएनएस की व्याख्याता डॉ.हेला का कहना है कि यह पहली बार है जब किसी जीवाश्म में कैंसर की बीमारी का पता चला है। जीवाश्म में मिले से लक्ष्ण ठीक वैसे ही हैं, जैसे वर्तमान में इंसानों को हुए कैंसर में मिलते हैं। डॉ. हिला के अनुसार अल्बर्टा, कनाडा से मिले डायनासोर की पूंछ के एक जीवाश्म में यह ट्यूमर (लैंगरहंस सेल हिस्टियोसाइटोसिस) मिला है। माइक्रो सीटी स्कैन से इसका पता चल पाया है।


अमरीकन इंस्टीट्यूट ने भी माना सही

अमरीकी कैंसर एजेंसी नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट ने भी डॉ.हेला के इस दावे को मान्यता दी है। इंस्टीट्यूट के अनुसार पहली बार डायनासोर में कैंसर की पहचान हुई है। यह खोज चिकित्सा के अध्ययन में मदद कर सकती है। इसके साथ ही इससे कैंसर जैसी बीमारी के फैलने के कारणों को जाना जा सकता है।