मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर में 2 ऐसी चट्टाने हैं जिनको देखकर हर कोई हैरान हो जाता है। यहां पर धरती की सबसे पुरानी चट्टानें (old rocks) भी पाई जाती हैं। लेकिन जबलपुर की मदन महल की पहाड़ियों में स्थित 2 चट्टानों को देखकर हर कोई दांतों तले अंगुली दबा लेता है।

यह प्रकृति का ऐसा चमत्कार है जो हजारों सालों से यथावत है। यहां 2 चट्टाने आपस में इस तरह जुड़ी हुई है कि वो भूकंप में भी अलग नहीं होती। इन दोनों चट्टानों के बैलेंस देखकर ही इन्हें बैलेंस रॉक नाम (Balance Rock) दिया गया है।प्रकृति की इस अद्भुत नजारे को देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। इन चट्टानों के बीच एक ऐसा अनोखा बैलेंस है जो इन्हें हजारों सालों से जोड़कर रखे हुए है।पुरातत्वविद बताते हैं कि ये चट्टानें मैग्मा के जमने से निर्मित हुई हैं। विज्ञान के भाषा में इसे ग्रेनाइट बॉक्स भी कहते है। जबलपुर में धरती की सबसे पुरानी ग्रेनाइट चट्टान मौजूद है।जियोलॉजिस्ट्स के अनुसार इन दोनों चट्टानों को केंद्रीय गुरुत्वाकर्षण बल जोड़कर रखा हुआ है जो इन्हें गिरने नहीं देता। ये बल इतना जबरदस्त है कि जबलपुर में 1997 आए 6.3 की तीव्रता का भूकंप भी इन चट्टानों का कुछ नहीं बिगाड़ सका।