भारत में गाय को मां का दर्जा दिया जाता है। यहां अगर बच्चा जन्म के बाद मां का दूध नहीं पी रहा है, तो उसे गाय का दूध दिया जाता है। इसके अलावा गाय को भगवान कृष्ण की सवारी के तौर पर भी पूजा जाता है। हालांकि, विदेशों में ऐसे कई देश हैं, जहां गाय को काटकर खाया जाता है। जबकि भारत में इसका मांस प्रतिबंधित है। लेकिन कहते हैं ना कि अगर मन में किसी के प्रति प्यार आ जाए, तो ये भावना मरते दम तक खत्म नहीं होती।

ये भी पढ़ेंः BJP सरकार का बड़ा ऐलान, अब अंत्योदय व गृहस्थी कार्ड धारकों को नहीं मिलेगा फ्री गेहूं-चावल

इंग्लैंड में रहने वाले जॉर्ज ब्रूक्स को भी अपनी गायों से यही प्रेम हो गया था। जब उसकी मौत हुई, तो उसके शव को ट्रैक्टर पर लादकर वापस उसके खेतों में लाया गया। यहां गौशाला में उसकी गायों से उसकी लाश की अंतिम मुलाक़ात करवाई गई। दरअसल, जॉर्ज की आखिरी इच्छा थी कि उसके अंतिम संस्कार से पहले उसे गायों से मिलाया जाए। इसी विश को जॉर्ज के घरवालों ने पूरा किया।

StaffordshireLive में छपी खबर के मुताबिक़, जॉर्ज की मौत 31 जुलाई को हुई थी। अंतिम संस्कार से पहले उसकी बॉडी को उसके गांव लाया गया था। वहां उसके गौशाला में बंधे कई गायों के पास उसकी बॉडी को थोड़ी डेटर के लिए छोड़ दिया गया। जॉर्ज के घरवालों के मुताबिक़, जॉर्ज को ये काफी अच्छा लगा होगा। ऐसा इसलिए कि जीते जी उसे कुछ बेहद प्यारा था तो वो थीं ये गायें।

ये भी पढ़ेंः मेरी बहन फिट थीं, उसे नहीं आ सकता हार्ट अटैक, अब सोनाली फोगाल की बहन ने की सीबीआई जांच की मांग

जॉर्ज के बेटे डेविड ने बताया कि उसके पिता भले ही शहर में शिफ्ट हो गए थे, लेकिन हर कुछ दिनों में अपने गांव जाते थे। उन्हें खेती से काफी लगाव था। यही वजह डेविड भी खेती में रुचि रखता है। जब उसके पिता की मौत हुई, तो डेविड ने अपने पिता की बॉडी को एक ट्रैक्टर में भरकर वापस अपने गांव ले गया। वहां गायों के बीच उसकी बॉडी को थोड़ी देर छोड़ दिया गया। जॉर्ज के अंतिम संस्कार में तीन सौ से ज्यादा लोग शामिल हुए। फिलहाल इस यूनिक फ्यूनरल की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।