हौसला बुलंद हो तो अंगारे भी फूल सरीखे हो जाते हैं। यही हौसला मुंबई के 1356 लोगों ने दिखाया और दहकते अंगारों पर चल कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में अपना नाम दर्ज करा लिया। 

मुंबई की एक ज्वैलरी फर्म के कर्मियों ने मुंबई के निकट इमेजिका थीम पार्क में यह कारनामा कर दहकते अंगारों पर चलने का 608 लोगों का मौजूदा रिकॉर्ड कहीं पीछे छोड़ दिया। 

यह प्रयास गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड की तरफ से मौजूद निर्णायक रिषि नाथ के सामने किया गया और रिषि नाथ ने इस नए रिकॉर्ड को प्रमाणित भी किया। दहकते अंगारों पर चलने के इस अनूठे कारनामे को उसके अंजाम तक पहुंचाया अंतरराष्ट्रीय रूप से प्रमाणित छह निर्देशकों ने। 

अंगारों पर चलने के लिए अंतरराष्ट्रीय रूप से मान्यता प्राप्त आशीष अरोड़ा, लीना दास, उन्नीकृष्णन केबी, जोसफ पालसन, राजेश राय और योगीश अरोड़ा के मार्गदर्शन में 1356 लोगों ने इस कारनामे को अंजाम दिया। 

इन प्रशिक्षकों ने खुद भी अंगारों पर चलकर लोगों का हौसला बढ़ाया। प्रशिक्षक राजेश राय ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस रिकार्ड के लिए 6.6 फीट की अंगारों की खाई बनाई गई जिस पर प्रतिभागियों ने नंगे पांव चलकर इस कारनामे को अंजाम दिया। सभी प्रतिभागियों ने पांच या छह कदम चलकर इस खाई को पार किया। 

राजेश राय ने इस साहसिक कारनामे पर कहा, 'अंगारों पर चलने का मकसद अपने जीवन के डर पर विजय पाना है। अंगारों पर चलना एक ऐसे प्रेरक का काम करता है जिससे आप अपने अंदर छिपे डर पर विजय पाते हैं, खुद पर भरोसा करते हैं और मानसिक रूप से मजबूत बनते हैं। इससे आपके अंदर यह भावना आती है कि मुझमें यह करने की ताकत है।'

अंगारों पर चलने के अपने अनुभव पर 23 साल की प्रतिभागी सुयाशा तामोर ने कहा, 'यह बहुत रोमांचक था। मैं नहीं जानती थी कि मेरे अंदर कितने डर छिपे हुए हैं। हमें बचपन से सिखाया जाता था कि आग से दूर रहो और यह डर हमेशा हमारे जीवन के साथ बना रहता था। मैं शुरुआत में हिचकिचा रही थी लेकिन जैसे ही मैंने आग की खाई को पार किया मेरे अंदर छिपे तमाम डर निकल गए और मैं खुद को विजेता महसूस कर रही हूं।'

इस प्रयास को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में जगह देते हुए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड के निर्णायक रिषि नाथ ने कहा, 'हमें यह घोषणा करते हुए बहुत खुशी हो रही है कि एक जगह पर सर्वाधिक लोगों ने लगातार अंगारों पर चलने का नया गिनीज रिकॉर्ड स्थापित कर दिया है। प्रतिभागियों का साहस और जोश देखना और दर्शकों का उनका उत्साहवर्धन करना निश्चित रूप से रोमांचक था।'