यूक्रेन के साथ युद्ध करने की वजह से रूस पर आर्थिक पाबंदियों की मार इस कदर पड़ रही है कि वहां चीनी के लिए सुपरमार्केट में लोग आपस में लड़ पड़े। चीनी के लिए सुपरमार्केट में रूसी लोगों की आपस में लड़ाई का एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो गया है। चीनी की तंगी की वजह से कुछ स्टोर्स ने प्रति ग्राहक 10 किलोग्राम की सीमा लगा दी है। रूस में वार्षिक मुद्रास्फीति 2015 के बाद से उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है, जिससे चीनी समेत कई खाद्य सामग्रियों की कीमतें आसमान छू रही हैं।

देखें वीडियो —

यह भी पढ़ें : सरकार को अरूणाचल में बड़ी कामयाबी, एक ही झटके में सरेंडर करवाई 2000 से अधिक एयर गन

इस वायरल वीडियो शॉपिंग कार्ट से चीनी के बैग लेने के लिए लोगों की भीड़ को आपस में झगड़ते और धक्का-मुक्की करते देखा जा सकता है। इस वीडियो को सोशल मीडिया पर काफी शेयर किया जा रहा है। ये रूसी-यूक्रेन युद्ध के कारण आम नागरिकों के सामने आने वाली कठिनाइयों को उजागर कर रहे हैं।

हालांकि, रूसी सरकार ने कहा है कि चीनी की कोई कमी नहीं है। यह संकट लोगों की ओर से दुकानों में अधिक खरीदारी करने से पैदा हो रहा है। साथ ही चीनी निर्माताओं की ओर से कीमत बढ़ाने के लिए जमाखोरी की जा रही है। हालांकि, सरकार ने देश से चीनी के निर्यात पर भी अस्थायी रोक लगा दी है। चीनी की कीमत 31 प्रतिशत तक बढ़ गई है। 

यह भी पढ़ें : युवक की कॉस्टेबल ने की इतनी खतरनाक पिटाई, हिल गया अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन

चीनी ही नहीं बल्कि पश्चिमी देशों की पाबंदियों के कारण रूस में दूसरे प्रोडक्ट्स भी महंगे होते जा रहे हैं। कई पश्चिमी स्वामित्व वाले व्यवसायों ने रूस छोड़ दिया है और इसलिए कारों, घरेलू सामानों के साथ-साथ टेलीविजन जैसे विदेशी आयातित सामानों की भारी कमी है। हालांकि, रूसी सरकार ने करेंसी कंट्रोल को लागू करके महंगाई को नियंत्रण में रखने का प्रयास किया है, लेकिन ये बेअसर रहा हैं। पूरे देश में कीमतें लगातार बढ़ रही हैं, जिसके चलते आम लोगों का जीवन-यापन मुश्किल हो रहा है।