दक्षिण अमेरिकी देश अर्जेंटीना की एक कोर्ट में तोते की गवाही पर रेप के आरोपियों को सजा दी जा रही है। यह भले ही सुनने में अटपटा लगे लेकिन सच है। अर्जेंटीना में 46 साल की एक महिला के साथ 2 लोगों ने पहले बलात्कार किया और उसके बाद उसकी हत्या कर दी।

इस पीड़ित महिला का शव उसके किराए के घर में मिला था जहां उसके साथ दो अन्य लोग भी रह रहे थे। अब स्थानीय अदालत में इस केस को लेकर पुलिस ने बताया है कि फ्लैटमेट्स की जांच के बाद उन्हें एक तोते के जरिए निर्णायक सुराग मिला है।

अर्जेंटीना के सैन इसिड्रो की एक अदालत में तोते ने वहां की स्थानीय भाषा में  "नो, पोर एहसान, सोलटेम" यानी की 'नहीं, प्लीज, मुझे जाने दो' कहते हुए सुना है। इसको लेकर पुलिस ने बताया कि यह तोता घटना के वक्त वहीं मौजूद था। पुलिस के मुताबिक तोता को वो महिला ही पालती थी जिसकी आरोपियों ने रेप के बाद हत्या कर दी थी।

पुलिस का कहना है कि अपनी मालकिन के आखिरी शब्दों को सुनने के बाद सदमे में तोता बार-बार इसे दोहरा रहा है। महिला से रेप और और उसकी हत्या दिसंबर 2018 में की गई थी।

एक पड़ोसी ने भी कथित तौर पर यह कहते हुए सुना, "तुमने मुझे क्यों पीटा?"  तोते की गवाही के अलावा, मुख्य अभियोजक बिबियाना सैंटेला ने उस पड़ोसी के बयान को भी गवाह के तौर पर केस में शामिल किया है। डीएनए रिपोर्ट और दांतों के निशान ने अभियोजन के आरोपों का सही ठहराने में अहम भूमिका निभाई है।

इस मामले में 53 साल के मिगुएल रोलन और 65 साल के जॉर्ज अल्वारेज़ पर रेप और हत्या का मुकदमा चलाया गया है और दोषी पाए जाने पर उन्हें आजीवन कारावास का सामना करना पड़ सकता है।