असम में कांग्रेस के नेता देबब्रत सैकिया ने सोशल मीडिया के मंचों पर बढ़ती जा रही अपमानजनक और गंदी टिप्पणियों को लेकर सीआईडी की साइबर क्राइम यूनिट में शिकायत दर्ज कराई है। 

ये शिकायत एक फेसबुक पोस्ट पर आधारित है। देबोजित रॉय नाम का इस्तेमाल करने वाले शख्स की प्रोफाइल से जनमत(वॉक्स पोपुली)ग्रुप में की गई। पोस्ट में वैष्णविते संत श्रीमंता जनकारदेव के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां की गई है। 

सैकिया ने बताया कि हम पिछले कुछ दिनों से देख रहे थे कि सोशल मीडिया पर विशेष समुदाय,धर्म और विचारधार को निशाना बनाकर आपत्तिजनक टिप्पणियां की जा रही है। कांग्रेस के कुछ सदस्यों को भी निशाना बनाया गया और उनका मजाक उड़ाया गया लेकिन अब श्रीमंता जैसे महापुरुष का मजाक बनाया गया, जिनके नाम से हम असमी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर खुद की पहचान करते हैं। हमने कदम उठाने का फैसला लिया। 

अन्यथा कल को पूरी पहचान खतरे में पड़ सकती है। सैकिया ने शिकायत के साथ पुलिस को पोस्ट के स्क्रीनशॉट की कॉपी भी सौंपी है। सैकिया के साथ जो लोग अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ए.के.झा को शिकायत करने गए उनमें अब्दुल खलीके,नंदिता दास और जकिर हुसैन सिकदर शामिल थे। 

सैकिया ने आरोप लगाया कि सोशल मीडिया भाजपा का फ्रेंकेनस्टेन बन गया है। बदमाश और रेडिकल थिंकर्स अब घृणा फैलाने के लिए सोशल मीडिया के मंचों का इस्तेमाल कर रहे हैं। सैकिया ने कहा कि सोशल मीडिया पर घृणा फैलाने वाले संदेश दंगे जैसी स्थिति के लिए जिम्मेदार थे। 

हाल ही में सिलचर में दो समुदायों के बीच हिंसक झड़पें हुई थी। एक प्रेमी जोड़े ने घर से भागकर शादी कर ली थी। दोनों अलग अलग समुदाय के थे। इसको लेकर सोशल मीडिया पर काफी जहर उगला गया था। इस कारण दोनों समुदायों के बीच झड़पें हुई थी। हालांकि बाद में स्थिति सामान्य हो गई।