Tokyo olympics 2020 में आपने कई विजेता खिलाड़ियों को मेडल दांत से काटते हुए तो देखा होगा लेकिन जब ऐसा ही कुछ जापान के एक मेयर ने करना चाहा तो उनकी जग हंसाई हो गई। जापान के नागोया शहर के मेयर ताकाशी कावामूरा ने ओलंपिक्स में गोल्ड जीतने वाली सॉफ्टबॉल एथलीट मियू गोटो के मेडल को दांत से काटा तो ये मेडल टूट गया जिसके बाद ओलंपिक के प्रशासन ने कहा है कि वे इस एथलीट के लिए नया मेडल तैयार कराएंगे।

इस दौरान वहां कई मीडियाकर्मी भी पहुंचे। रिपोर्ट्स के अनुसार, ताकाशी ने जैसे ही गोल्ड मेडल को दांतों से काटा, उसी समय मेडल के टूटने की आवाज भी आई थी। इस घटना के सामने आने के बाद लोग सोशल मीडिया पर काफी भड़के हुए हैं। इस घटना के वायरल होने के बाद ताकाशी ने सोशल मीडिया पर माफी भी मांगी है।

सोशल मीडिया पर कई लोग इस घटना के बाद जापानी मेयर से काफी लोग खफा हैं हीं साथ ही आईओसी एथलीट्स कमीशन की मौजूदा सदस्य यूकी ओटा(Yuki Ota) ने भी अपने एक ट्वीट में टकाशी की आलोचना की है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि मुझे नहीं पता कि इस एथलीट और मेयर में क्या संबंध हैं लेकिन इस घटना से साफ होता है कि उन्हें इस एथलीट के लिए कोई रिस्पेक्ट नहीं है।

उन्होंने अपने ट्वीट में ये भी कहा कि ये घटना दर्शाती है कि वे ना तो एथलीट की इज्जत करते हैं और ना ही उन्हें कोरोना प्रोटोकॉल की कोई परवाह है। वही 72 साल के मेयर ने माफी मांगते हुए कहा कि मैं ये मानता हूं कि मैंने इस महिला एथलीट का गोल्ड मेडल गंदा किया है जिसके लिए उन्होंने कई सालों से मेहनत की थी।

उन्होंने आगे कहा कि मैं इस गलती के लिए दिल से माफी मांगता हूं और वहां मौजूद बाकी लोगों को असहज महसूस कराने के लिए भी माफी मांगता हूं। जापान की मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने इस मेडल को रिप्लेस कराने का भरोसा दिलाया है। इसके अलावा अंतराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने भी गोल्ड रिप्लेसमेंट के लिए परमिशन दे दी है।

हालांकि इस माफी के बावजूद ताकाशी को लेकर लोगों का गुस्सा कम नहीं हुआ। जापान के पब्लिक ब्रॉडकास्टर एनएचके के अनुसार,  ताकाशी के माफी मांगने के अगले ही महीने नागोया सिटी हॉल को 7000 से भी अधिक ईमेल्स और फोन कॉल्स आए थे जिनमें मेयर के एक्शन की काफी आलोचना की गई थी।

वही टोक्यो ओलंपिक में जापान के लिए गोल्ड मेडल जीतने वाली नाओहिसा ताकातो ने एक ट्वीट में करते हुए कहा था कि अगर ऐसी घटना उनके मेडल के साथ होती तो वे इमोशनल हो जातीं और अपने आपको रोने से नहीं रोक पातीं। उन्होंने अपने ट्वीट में आगे कहा कि मैं अपने मेडल को खुद से ज्यादा संभाल कर रखती हूं और मैं कोशिश करती हूं कि मेरे मेडल को खरोंच तक ना आ पाए।

ट्विटर पर 'रोगाणु मेडल' का जापानी शब्द भी टॉप ट्रेंड हैशटैग था। कावामूरा ने लोगों के गुस्से को देखते हुए टोक्यो पैरालंपिक टॉर्च इवेंट में हिस्सा ना लेने का फैसला किया है। जापान की मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस इवेंट को कावामूरा की जगह नागोया के डिप्टी मेयर अटेंड करेंगे।