गूगल सर्च में लोगों के व्हाट्सएप नंबर दिख रहे हैं जिसकी वजह से कोई भी मैसेज कर सकता है। जी हां, एक रिसर्च में सामने आया है कि व्हाट्सएप अकाउंट से लिंक फोन नंबर कोई भी गूगल सर्च में देख सकता है और यह यूजर्स के लिए एक बड़ा 'प्राइवेसी इश्यू' है। इसको लेकर चेतावनी दी गई है कि व्हाट्सएप के 'Click to Chat' फीचर की वजह से यूजर्स के मोबाइल नंबर रिस्क पर हैं क्योंकि इन्हें गूगल सर्च में कोई भी देख सकता है और इनपर मेसेज कर सकता है।
इस बात का पता बग बाउंटी हंटर अतुल जयराम ने लगाया है। उन्होंने कहा है कि यूजर्स के फोन नंबर 'लीक' हो रहे हैं। उन्होंने इसे एक सिक्यॉरिटी बग मानते हुए कहा कि वॉट्सऐप यूजर्स की प्रिवेसी इसकी वजह से रिस्क पर है। दरअसल, वॉट्सऐप का Click to Chat फीचर यूजर्स को वेबसाइट्स पर विजिटर्स के साथ चैटिंग करने का आसान ऑप्शन देता है। यह फीचर किसी क्विक रेस्पॉन्स (QR) कोड इमेज की मदद से काम करता है, या फिर किसी यूआरएल पर क्लिक कर चैटिंग की जा सकती है।
साइट पर आने वाला विजिटर दिए गए QR कोड को स्कैन करके या फिर लिंक पर क्लिक करके चैटिंग कर सकता है और इसके लिए उसे व्हाट्सएप नंबर की जरूरत नहीं पड़ती। एकबार चैटिंग शुरू होने के बाद जरूर विजिटर को नंबर दिखने लगता है। जयराम ने कहा कि ऐसे मोबाइल नंबर सीधे गूगल सर्च में भी दिख रहे हैं, क्योंकि सर्च इंजन चैट मेटाडेटा को भी इनडेक्स करता है। यूजर्स को मोबाइल नंबर https://wa.me/<0Phone Number)> यूआरएल के तौर पर गूगल पर दिख रहे हैं।
व्हाट्सएप का कहना है कि Click to Chat यूजर्स को दिया गया एक फीचर है और इसमें सिक्यॉरिटी या प्रिवेसी से जुड़ी खामी जैसा कुछ नहीं है। वॉट्सऐप की मानें तो उन्हीं यूजर्स के नंबर ऑनलाइन उपलब्ध हैं, जिन्होंने पब्लिक साइट्स पर चैटिंग के लिए यूजर्स को ऑप्शन दिया है। वहीं, रिसर्चर का कहना है कि यूजर्स को नहीं पता कि उनके नंबर गूगल सर्च में प्लेन टेक्स्ट की तरह दिख रहे हैं। इन नंबरों का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है और कई यूजर्स की प्रोफाइल फोटो की मदद से बाकी सोशल अकाउंट्स तक भी पहुंचा जा सकता है।