अगर आप कॉन्टेंट राइटिंग करते हैं और खबरों पर अच्छी पकड़ है तो आप फेसबुक के लिए काम करके लाखों रुपए कमा सकते हैं। दरअसल अश्लील और आतंकवाद से जुड़े कॉन्टेंट को हटाने के लिए फेसबुक ने बीस हजार मॉडरेटर्स नियुक्त करने की बात कही थी। भारत में फेसबुक का कॉन्टेंट मैनेजमेंट सर्विस कॉन्ट्रैक्ट बिजनस प्रॉसेस मैनेजमेंट (बीपीएम) कंपनी जेनपैक्ट ने हासिल किया है। अब जेनपैक्ट इस रोल में हैदराबाद में हायरिंग कर रही है, जहां सोशल मीडिया कंपनी का ऑफिस है। इसके लिए सालाना 2.25. से 4 लाख रुपये की सैलरी ऑफर की जा रही है। इसके अलावा कॉन्टेंट मॉडरेटर्स को मंथली इंसेंटिव भी मिलेंगे। 

जेनपैक्ट तमिल, कन्नड़, ओडिय़ा, छत्तीसगढ़ी, नेपाली, मराठी, मिजो और पंजाबी सहित दूसरी भारतीय भाषाओं में कॉन्टेंट मॉडरेटर्स को हायर कर रही है। सूत्रों के अनुसार कॉन्टेंट मॉडरेटर्स को जानी-मानी सोशल मीडिया वेबसाइट पर यूजर के डाले गए कॉन्टेंट और वीडियो को मॉनिटर और मॉडरेट करना होगा, जिससे ऑनलाइन कम्युनिटी को सुरक्षित और मजेदार माहौल मिले। मॉडरेटर्स को सेक्सुअल असॉल्ट, टेररिज्म, बच्चों के यौन उत्पीडऩ, लाइव सुसाइड वीडियो और हिंसात्मक कॉन्टेंट को लेकर असहज नहीं होना होगा।

हालांकि जेनपैक्ट ने अपने विज्ञापन में यह नहीं बताया है कि वह ऐसी नियुक्तियां फेसबुक के लिए कर रही है, लेकिन कंपनी इस रोल में हैदराबाद में हायरिंग कर रही है, जहां सोशल मीडिया कंपनी का ऑफिस है। जेनपैक्ट ने इस जॉब के लिए पूछे गए सवालों का जवाब देने से मना कर दिया। कंपनी के प्रवक्ता ने ईमेल से बताया कि हम अपने क्लाइंट्स को जो सर्विस देते हैं, उसे गंभीरता से लेते हैं। हमें क्लाइंट्स के लिए काम की गोपनीयता बनाए रखनी होती है। इसलिए हम स्पेसिफिक रिलेशनशिप पर पूछे गए सवालों पर न कमेंट कर सकते हैं और न ही उसे कंफर्म कर सकते हैं।

बता दें कि फेसबुक खुद भी कॉन्टेंट मॉडरेटर्स को हायर करती है। इसके साथ 50 से अधिक भाषाओं में पोस्ट्स को मॉनिटर करने के लिए वह जेनपैक्ट जैसी कंपनियों को आउटसोर्सिंग भी करती है। इस मामले में फेसबुक के प्रवक्ता ने कहा कि सेफ्टी और सिक्योरिटी पर हमारी टीम का साइज इस साल दोगुना होने जा रहा है। दुनिया भर में 20,000 लोग इसके लिए काम करेंगे। इसमें हमारी 7,500 लोगों की कॉन्टेंट रिव्यूअर्स की टीम भी शामिल है, जिसमें लगातार बढ़ोतरी हो रही है। उन्होंने जेनपैक्ट के साथ पार्टनरशिप को लेकर पूछे गए सवालों के जवाब नहीं दिए।