बैंक से लोन लेने वालों के लिए खुशखबरी है क्योंकि उनकी ईएमआई माफ हो सकती है। जी हां, नोबेल से सम्मानित इकोनॉमिस्ट डॉ. अभिजीत बनर्जी ने कहा है कि कर्ज की ईएमआई सिर्फ टालने से कोई फायदा नहीं होने वाला। उन्होंने कहा कि कुछ समय के लिए ईएमआई पूरी तरह से माफ होनी चाहिए और इसका भुगतान सरकार को करना चाहिए।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ एक संवाद में भारतीय मूल के अर्थशास्त्री ने यह बात कही। इस संवाद का कांग्रेस के सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रसारण किया गया।
बनर्जी ने कहा, 'मुझे लगता है कि हम इसे एमएसएमई सेक्टर के लिए आसानी से कर सकते हैं और वह सही भी होगा कि हम कुछ समय के लिए कर्ज वसूली पर रोक लगा सकते हैं।
हम इससे ज्यादा भी कर सकते हैं। हम यह भी कह सकते हैं कि इस तिमाही के कर्ज की अदायगी सरकार करेगी तो आप इससे ज्यादा भी कर सकते हैं। सिर्फ कर्ज की अदायगी को आगे-पीछे करने के बजाए, इसे माफ ही कर दिया जाना सही रहेगा।

उन्होंने कहा, 'मांग में कमी का मसला है। दो चिंताएं हैं, पहली कि कैसे दिवालिया होने की चेन को टालें, कर्जमाफी एक तरीका हो सकता है। दूसरा है मांग में कमी का, और लोगों के हाथ में पैसा देकर अर्थव्यवस्था का पहिया घुमाया जा सकता है। अमेरिका बड़े पैमाने पर ऐसा कर रहा है। वहां रिपब्लिकन सरकार है जिसे कुछ फाइनेंसर चलाते हैं। अगर हम चाहें तो हम भी ऐसा कर सकते हैं।