यह बात सही है कि भारत में टैलेंट की कोई कमी नहीं, बस उसें सही प्लेटफॉर्म या सही अवसर मिलना चाहिए। इसी का ताजा उदाहरण हाल ही में असम के माजूली में रहने वाले एक कॉलेज स्टूडेंट ने पेश किया है। गुनिंदा कृष्णा महंता नाम के इस विद्यार्थी ने मात्र 15 दिनों में एक ऐसी साइकिल का निर्माण कर दिया जो पेट्रोल से चलती है। 

हाल ही में नए मोटरव्हीकल एक्ट के आने बाद असम के इस विद्यार्थी ने ऐसा आविष्कार किया है जो काफी सराहनीय है। ईंधन से चलने वाली यह साइकिल अपने आप में एक अनोखा नमूना है। गुनिंदा डिब्रूगढ़ यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट हैं तथा बिहिमपुर सतारा के रहने वाले है। उन्होंने फिजिक्स में मास्टर्स की डिग्री ली है। वो अपने कॉलेज अपनी बनाई हुई पेट्रोल से चलने वाली साइकिल से ही जाते हैं। इस साइकिल में 80 सीसी का 2 स्ट्रॉक इंजन लगा है। यह साइकिल 26 किलोमीटर प्रतिलीटर का माइलेज देती है।

अपनी इस अनोखी साइकिल को लेकर गुनिंदा का कहना है कि काफी सारे प्रयोग करने के बाद वो इसे बनाने में सफल हुए हैं। उन्होंने इसके लिए पार्ट्स online खरीदे और इसें मात्र 15 दिनों में बना लिया। इस साइकिलो बनाने में उनका 21000 रूपये का खर्च आया। हालांकि इस साइकिल का माइलेज कम है लेकिन यह काफी तेज दौड़ती है और इसमें उनको किसी तरह के कागजात साथ रखने का झंझट भी नहीं।