त्रिपुरा में अगरतला के दो परिवार जो चिकित्सा उपचार के लिए चेन्नई गए थे, भारत में कोरोनोवायरस के मामलों की बढ़ती संख्या पर अंकुश लगाने के लिए सरकार द्वारा लगाए गए राष्ट्रव्यापी बंद के कारण फंसे हुए थे। लेकिन इसके बाद जो कुछ हुआ वह काफी असाधारण था क्योंकि उन्हें वापस त्रिपुरा ले जाने के लिए एम्बुलेंस किराए पर लेने के लिए परिवारों को 1.4 लाख रुपये देने पड़े।


एक परिवार दक्षिण त्रिपुरा जिले के उदयपुर इलाके में रहता है, जबकि दूसरा पश्चिम त्रिपुरा जिले के मोहनपुर इलाके में रहता है। दिलचस्प बात यह है कि दोनों परिवारों ने बड़ी रकम दी चेन्नई से त्रिपुरा जाने के लिए जिसका सफर पांच दिनों का है और लगभग 3,700 किलोमीटर दुरी है।


लॉकडाउन संकट के बीच वह कैसे परिवहन प्राप्त करने में कामयाब रहे, इस बारे में बात करते हुए, मजुमदार ने कहा कि 15 अप्रैल को, वे अंततः घर वापस जाने के लिए एक एम्बुलेंस किराए पर लेने में कामयाब रहे। अपने घर वापस जाते समय, जिस एम्बुलेंस में दोनों परिवार यात्रा कर रहे थे, उसे सौ से अधिक चौकियों पर रोक दिया गया था, लेकिन मजुमदार ने कहा कि पुलिस उनकी कहानी सुनकर उन्हें गुजरने की आज्ञा दे देती थी।