त्रिपुरा में तीन विशेष पर्यवेक्षकों के आगमन के साथ ही पुलिस मुख्यालय ने बुधवार को सभी अनुमंडल पुलिस अधिकारियों (एसडीपीओ) और थानों के प्रभारियों को चुनाव आयोग (ईसीआई) के निर्देशों का पालन करने तथा शांतिपूर्ण मतदान सुनिश्चित कराने का आदेश दिया। त्रिपुरा पुलिस पर विपक्षियों ने शिकायतों की पोटली खोलकर कहा कि वह पिछले पांच सालों से सिर्फ सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के पक्ष में पक्षपातपूर्ण भूमिका निभा रही है। जिससे यहां की पुलिस पर ईसीआई के कड़े निर्देशों का पालन करने का दबाव है, कि वह जल्द से जल्द भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ विपक्षी दलों की शिकायतों पर कार्रवाई करे।

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा विधानसभा चुनाव 2023: टिपरा प्रमुख प्रद्योत देबबर्मा बोले - बीजेपी के साथ कोई सीट बंटवारा नहीं होगा


चुनाव आयोग ने जिरानिया के एसडीपीओ और जिरानिया व रानीरबाजार थानों के प्रभारियों को इसलिए निलंबित कर दिया क्योंकि राज्य के सूचना मंत्री सुशांत चौधरी के नेतृत्व में भाजपा कार्यकर्ताओं ने गत 18 जनवरी को 32 कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर सुरक्षा बलों की उपस्थिति में हमला किया था। पर इसके बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। अधिकारियों ने कहा कि पुलिस के कामकाज और हिंसा की शिकायतों की समीक्षा की गयी। इस दौरान, विशेष पुलिस पर्यवेक्षक (मध्य प्रदेश के सेवानिवृत्त डीजीपी) विवेक जौहरी ने अभियान पर नाराजगी व्यक्त की और पुलिस को राजनीतिक दलों के दबाव से परे ‘तटस्थ’ रूप से कार्य करने का निर्देश दिया।

ये भी पढ़ेंः पीएम मोदी के पोस्टर को खराब करने वाले अधिकारी को चुनाव आयोग ने किया निलंबित


निर्देश के तुरंत बाद आईजीपी (कानून व व्यवस्था) ने एक आदेश जारी कर चेतावनी जारी करते हुए कहा कि अगर अवैध बाइक रैली को नहीं रोका गया तो क्षेत्र के ओसी और एसडीपीओ के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सभी जिलों के एसडीपीओ और थाना प्रभारियों को यह भी आदेश दिया गया है कि बगैर जरूरी अनुमति के किसी भी मोटरसाइकिल रैली को आयोजित करने की मंजूरी नहीं दी जाय। पुलिस अधिकारियों को राज्य में चुनाव शांति पूर्ण कराने पर जोर दिया गया और इस दौरान हिंसा या आपराधिक प्रयास से समझौता नहीं करने का भी निर्देश दिया गया है। बहरहाल, पुलिस कार्रवाई में जुट गई और अब तक आपराधिक गतिविधियों के सिलसिले में पांच दिनों में 132 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

पुलिस ने शहर के बमुतिया विधानसभा क्षेत्र के एक भाजपा नेता को मंगलवार रात एयरपोर्ट के पास उषा बाजार इलाके से गिरफ्तार कर उनके कब्जे से एक पिस्टल व दो मैगजीन व 46 राउंड (7.62 एमएम) कारतूस बरामद किया। इसी दौरान, अमरपुर से यात्रा करते समय खोवाई के एक अन्य युवक को भारी मात्रा में नकदी के साथ गिरफ्तार किया गया। सीईओ किरण गिट्टे ने कहा कि त्रिपुरा में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की लगभग दो सौ कंपनियां पहले से ही तैनात हैं और असम राइफल्स, सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल तथा केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की कंपनियों सहित सीएपीएफ की तैनाती के साथ अगले सप्ताह राज्य में चुनाव शांतिपूर्ण होने की उम्मीद है।