त्रिपुरा पुलिस ने गुरुवार को उत्तरी जिले के धर्मनगर रेलवे स्टेशन पर वैध पहचान दस्तावेज पेश करने में विफल रहने के बाद तीन लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने आज (शुक्रवार) अगरतला में कहा कि उनके रोहिंग्या होने का संदेह है।

ये भी पढ़ेंः 2023 त्रिपुरा विधानसभा चुनाव से पहले, TMC ने कर दिया इतना बड़ा ऐलान


उनकी पहचान हबीजोर रहमान (42), रहमान शाह (19) और मोहम्मद यासीन (18) के रूप में हुई है। धर्मनगर एसडीपीओ एस देबबर्मा ने कहा कि हमें उनसे कोई वैध दस्तावेज नहीं मिला। हमने उन्हें विदेशी अधिनियम और पासपोर्ट अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच में पुलिस को पता चला है कि तीनों दिल्ली से धर्मनगर आए थे और बांग्लादेश जाने की योजना बना रहे थे।

ये भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने बांग्लादेश से IT Business Summit 2022 में निवेश को किया आमंत्रित


पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार लोगों के साथ एक महिला और उसके दो बच्चे भी यात्रा कर रहे थे, लेकिन उन्हें रिहा कर दिया गया क्योंकि उनके पास शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त (यूएनएचसीआर) द्वारा जारी वैध पहचान पत्र थे। बता दें कि त्रिपुरा की बांग्लादेश के साथ 856 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की एक रिपोर्ट के अनुसार 2019 में त्रिपुरा-बांग्लादेश सीमा पर 53 रोहिंग्या और एक नाइजीरियाई नागरिक को गिरफ्तार किया गया था। इनमें जनवरी 2019 में पश्चिम त्रिपुरा में भारतीय और बांग्लादेश के बीच नो-मैन्स लैंड से 31 रोहिंग्याओं की गिरफ्तारी शामिल है।