त्रिपुरा सरकार (Tripura government) ने एक सख्त आदेश जारी कर स्कूल परिसर में स्कूल के समय के दौरान या उसके बाद किसी भी तरह की राजनीतिक रैलियों और कार्यक्रमों (political rallies in School) को प्रतिबंधित कर दिया। यह आदेश राज्य के शिक्षा विभाग द्वारा स्कूल परिसर में इस तरह के कार्यक्रमों की अनुमति देने वाले प्रधानाध्यापकों के एक वर्ग के खिलाफ कुछ रिपोर्टों के आधार पर जारी किया गया था।

शिक्षा विभाग (education department of Tripura) ने परिसर में इस तरह के किसी भी राजनीतिक कार्यक्रम के संचालन के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) अनिवार्य कर दिया है। उन्होंने कहा कि खेल के मैदान सहित किसी भी स्कूल के संसाधनों का उपयोग किसी भी राजनीतिक दल / आयोजक द्वारा राजनीतिक कार्यों / रैलियों आदि के संचालन के लिए नहीं किया जाएगा।  विभाग ने कहा कि कई बार स्कूली मैदान का उपयोग राजनीतिक सभाओं के लिए करने के लिए मौन स्वीकृति दी गई है, जो कि आगे से नहीं होगा। 

त्रिपुरा सरकार (Tripura government) ने यह भी रेखांकित किया कि स्कूल के दौरान शारीरिक कक्षाओं के दौरान पढ़ाई को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए, क्योंकि कोरोना लॉकडाउन ने शिक्षण प्रणाली को बुरी तरह प्रभावित कर दिया था। बता दें कि हाल के दिनों में, त्रिपुरा में राजनीतिक हिंसा की घटनाओं में वृद्धि देखी गई है। त्रिपुरा में साठ सदस्यीय विधानसभा के लिए अगले साल (Tripura assembly elections) मतदान होगा। राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है।