त्रिपुरा सरकार ने ऐसा काम शुरू किया है जिसके तहत अब राज्य के किसान कटहल व अनानास बेचकर करोड़पति बनने वाले हैं। यहां की राज्य सरकार ने अनानास और कटहल जैसे फलों की खेती को बढ़ावा देने का निर्णय लिया है। इसी के तहज वहां जल्द ही त्रिपुरा अनन्नास एवं कटहल मिशन (TPJM) शुरू किया जा रहा है। इसके लिए सरकार ने बजट भी आवंटित किया है।

यह भी पढ़ें : शाकाहारी और मांसाहारी दोनों की खास पसंद है गुंडरूक, स्वाद ऐसा है कि चखते ही दीवाने हो जाते हैं लोग


त्रिपुरा के उद्योग एवं वाणिज्य सचिव पी. के. गोयल ने यह जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि टीपीजेएम को पांच साल तक चलाया जाएगा। इस मिशन के लिए 153 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है। राज्य मंत्रिमंडल की मंगलवार को हुई बैठक में टीपीजेएम संबंधी प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले वहां बांस के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए एक अभियान शुरू किया गया था।
दिया जाएगा।

गोयल के मुताबिक, टीपीजेएम के क्रियान्वयन का जिम्मा राज्य के उद्योग एवं वाणिज्य विभाग को दिया गया है। इस मिशन पर एक अप्रैल, 2022 से पूरे राज्य में काम शुरू हो जाएगा। इस मिशन की शुरूआती अवधि पांच साल रखी गई है। इसके बाद भी इस मिशनल को आगे बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि राज्य में अनानास एवं कटहल का उत्पादन बड़े पैमाने पर करने की योजना है।

यह भी पढ़ें : सिक्किम में बिना तेल के बनाया जाता है लजीज फग्शापा मीट, पूरी दुनिया में मशहूर है ये होटल

फिलहाल त्रिपुरा में करीब 8,800 एकड़ भू-भाग में अनानास की खेती की जा रही है। इसी तरह कटहल के बाग भी 8,929 हेक्टेयर क्षेत्र में फैले हैं। राज्य में पहले से ही ब्रिटेन एवं जर्मनी जैसे यूरोपीय देशों में अनानास का निर्यात किया जा रहा है। इसके अलावा पड़ोसी देश बांग्लादेश को भी अनानास और कटहल का निर्यात किया जा रहा है।