कोरोना काल में स्वच्छता बहुत ही जरूरी है। लेकिन डॉक्टर्स और स्वच्छता कर्मचारियों की सुरक्षा का किसी को ख्याल ही नहीं आया। वैसे ये लोग अपनी सुरक्षा करते हैं लेकिन कोरोना के शिकार होते इन्हें देर नहीं लगती है। इसी के लिए त्रिपुरा सरकार ने स्वच्छता कर्मचारियों के लिए एक अभियान चलाया है। ताकी लोगों को सुरक्षित करने की जंग में ये भी सुरक्षित रहें।


अगरतला नगर निगम (एएमसी), राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के सहयोग से, अपने श्रमिकों की एक विशाल कोविड-19 जांच अभियान शुरू किया है। इस अभियान का उद्देश्य वायरस के प्रसार के खतरे को कम करना है। शहर में सैकड़ों असुरक्षित फ्रंटलाइन कार्यकर्ता, जो मुख्य रूप से शहर में विभिन्न सफाई गतिविधियों में लगे हुए हैं। इनको टेटनस, टाइफाइड और हेपेटाइटिस के खिलाफ प्रतिरक्षित किया गया था।


मधुमेह, उच्च रक्तचाप और मोटापे जैसी गैर-संचारी बीमारियों के लिए भी उनकी जांच की गई है। श्रमिकों को स्वास्थ्य कार्ड भी प्रदान किए गए है। टीकाकरण, COVID -19 के खिलाफ एंटीबॉडी परीक्षण भी उपरोक्त परीक्षणों के अलावा एक साथ किया गया था। एएमसी कार्यकर्ताओं को साबुन, सैनिटाइटर, मास्क और अन्य सुरक्षा गियर के अलावा मुफ्त स्वास्थ्य जांच भी दि गई है।