सुबल भौमिक को पार्टी की त्रिपुरा इकाई के अध्यक्ष के पद पर पदोन्नत किए जाने से नाराज टीएमसी नेता आशीष दास ने ममता बनर्जी के नेतृत्व वाले खेमे से इस्तीफा दे दिया। धलाई जिले के सूरमा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के पूर्व विधायक ने अभी तक किसी अन्य पार्टी में शामिल होने की इच्छा नहीं दिखाई है।

ये भी पढ़ेंः CEO किरण गिट्टे के नेतृत्व में राज्य सचिवालय में हुई सर्वदलीय बैठक, कहा- स्वतंत्र एवं निष्पक्ष हो 2023 चुनाव


दास ने कहा कि त्रिपुरा में अस्सी प्रतिशत लोग टीएमसी के साथ आने के लिए उत्सुक थे, जब पार्टी ने राज्य में अपना विस्तार शुरु किया तो मैं भी इसमें शामिल हो गए, लेकिन अब ऐसा लगता है कि यहां अपना अस्तित्व बचाए रखना मुश्किल है। उन्होंने कहा कि टीएमसी नेतृत्व अपने नेताओं को उचित सम्मान नहीं देता। उन्होंने कहा, मैं अपना आत्मसम्मान को नहीं छोड़ सकता। वे (पार्टी नेतृत्व) हमें इंसान भी नहीं मानते हैं। इसलिए मैंने तृणमूल छोड़ने का फैसला किया है। उन्होंने दावा किया कि टीएमसी कांग्रेस को कमजोर करना और भाजपा को लाभ देना चाहती है। टीएमसी के सूत्रों ने कहा कि दास भौमिक की पदोन्नति से नाखुश थे। 

ये भी पढ़ेंः राज्य की गंभीर कानून व्यवस्था की स्थिति पर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र


दिग्गज नेता ने पिछले साल अक्टूबर में टीएमसी में शामिल होने के लिए भाजपा छोड़ दी थी। लोकसभा अध्यक्ष रतन चक्रवर्ती ने जनवरी में उन्हें कथित कदाचार के आरोप में छह साल के लिए विधायक पद से अयोग्य घोषित कर दिया था। इस दौरान दास चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। इस बीच, भौमिक ने दास पर निशाना साधते हुए कहा कि वह इतने महीनों में पार्टी के कार्यक्रमों में कहीं नहीं दिखे।दास का टीएमसी में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी द्वारा स्वागत किया गया। हालांकि, वह उसके बाद किसी भी पार्टी कार्यक्रम में नहीं देखे गए थे।