पूरा देश इस समय कोरोना महामारी से जूझ रहा है। कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों के चलते देश के सभी राज्य अलर्ट हैं और सभी राज्यों ने सख्ती बरतनी शुरू कर दी है। कई राज्यों ने तो नाइट कर्फ्यू भी लगाया हुआ है।

नार्थ ईस्ट में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अब डीएम भी मैदान में उतर आए हैं। ताजा मामला त्रिपुरा के पश्चिमी त्रिपुरा जिले का है, जहां डीएम शैलेश कुमार यादव ने कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर दो मैरिज हॉल को सील कर दिया। साथ ही डीएम ने पुलिस को महामारी रोग अधिनियम, आपदा प्रबंधन अधिनियम और रात के कर्फ्यू का उल्लंघन करने के लिए दूल्हा और दुल्हन समेत शादी में शामिल पूरी भीड़ के खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया।

सोशल मीडिया में वायरल त्रिपुरा के दो वीडियो में डीएम शैलेश कुमार यादव कफी गुस्से में दिखाई दिए। मैरिज हॉल पर छापा मारते डीएम ने कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर शादी में शामिल लोगों को वहां से बाहर निकाला। यहां तक कि डीएम ने दुल्हन को स्टेज से उतरने के लिए भी कहा, वहीं बाकी अधिकारी शादी में आए मेहमानों को मैरिज हॉल से बाहर निकालने में लग रहे। काफी गुस्से में दिख रहे डीएम की भाषा भी मर्यादा की सीमा को पार करने लगी, जो वीडियो में साफ नजर आ रहा है। वीडियो सोमवार का है।

डीएम ने प्रशासन के साथ सहयोग नहीं करने के लिए पुलिस के खिलाफ असंतोष भी व्यक्त किया। डीएम ने राज्य सरकार से पूर्वी अगरतला पुलिस स्टेशन के प्रभारी अधिकारी (ओसी) और कुछ ऑन-ड्यूटी पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की सिफारिश की है, जिन्हें जिला मजिस्ट्रेट के आदेश की अवहेलना करते देखा गया था।

एक रिपोर्ट के अनुसार हर दिन औसतन सौ कोरोना संक्रमित लोगों का पता लगाया जा रहा है, लेकिन राज्य में 1,000 से अधिक मरीजों को अस्पताल की देखभाल प्रदान करने के लिए कोई बुनियादी ढांचा नहीं है। बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर अगरतला नगर निगम (एएमसी) क्षेत्रों में 22 से 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू है। नाइट कर्फ्यू का समय रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक है।