निर्वाचन कार्यालय ने त्रिपुरा में हो रहे विधानसभा उपचुनाव के प्रचार के लिए कथित तौर पर सरकारी वाहन और हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल करने पर मुख्यमंत्री माणिक साहा के प्रधान निजी सचिव (पीपीएस) को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उल्लेखनीय है कि त्रिपुरा विधानसभा की चार सीटों अगरतला, बारडोवाली, सूरमा और जुबराजनगर पर 23 जून को उपचुनाव होने हैं।

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा उपचुनाव पर मुख्य निर्वाचन अधिकारी के साथ प्रतिनियुक्ति पर TMC की बैठक


माकपा के राज्य सचिव जितेंद्र चौधरी ने 28 मई को उत्तरी त्रिपुरा और धलाई जिलों में आदर्श आचार संहिता का कथित उल्लंघन होने की शिकायत दर्ज कराई थी। मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव को जारी नोटिस में अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी उसा जेन मोग ने कहा कि क्या आदर्श आचार संहिता मंत्रियों को चाहे वे केंद्र के हो या राज्य के, आधिकारिक यात्रा को चुनावी कार्य में समाहित करने की अनुमति देते हैं। अतिरिक्त सीईओ ने 29 मई को जारी नोटिस में कहा, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री के पीपीएस गौतम चक्रवर्ती को निर्देश दिया जाता है कि यह नोटिस प्राप्त होने के तीन दिन के भीतर शिकायत पर जवाब दें।

ये भी पढ़ेंः सीता पर कथित टिप्पणी करने वाले टीएमसी के राज्य महासचिव कुणाल घोष को मिली जमानत


उल्लेखनीय है कि साहा के 27 मई के कार्यक्रम में कहा गया कि वह उत्तरी त्रिपुरा और धलाई जिलों के जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों के साथ विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे लेकिन यह पता नहीं चल सका कि यह बैठक हुई या नहीं। उसी दिन मुख्यमंत्री के साथ चार भाजपा नेताओं टिंकू रॉय, बलाई गोस्वामी, दिलीप देबरॉय और कमल मलिक को उत्तरी त्रिपुरा के जुबराजनगर निर्वाचन क्षेत्र और धलाई जिले के सूरमा विधानसभा क्षेत्र में चुनाव प्रचार करते देखा गया।