त्रिपुरा में अगरतला हवाईअड्डे के पास नरसिंहगढ़ में मॉडर्न मनोचिकित्सा अस्पताल में कड़ी सुरक्षा के बावजूद 15 मनोरोगी भाग गए, जिसमें से नौ वापस लौट आए और छह का अभी तक पता नहीं चल पाया है। 

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार कुल 15 रोगियों ने अस्पताल के शौचालय की खिड़की की ग्रिल तोड़कर वहां से फरार हो गए। अस्पताल प्रशासन को कैदियों के भागने की सूचना मिलते ही उन्होंने पुलिस को इसकी सूचना दी। पूरे दिन की तलाश अभियान के बाद पुलिस ने आसपास के इलाके से सात को ढूंढ लिया और उन्हें अस्पताल प्रशासन के सुपुर्द कर दिया। 

अस्पताल सूत्रों ने कहा कि लापता दो लोगों के परिवार के सदस्यों ने बताया कि दोनों घर लौट आए हैं। उन्होंने बताया कि कुछ मरीज रात में अस्ताल से बाहर निकलते हैं। इन सभी ने पुरुष रोगी वार्ड के पीछे बने शौचालय में पहले से खिड़की की ग्रिल को निकाल रखा था और वे वहां से ग्रिल तोड़कर भाग गए। हमें इसके बारे में सुबह पता चला जब गाड्र्स ने खिड़की की ग्रिल को टूटी हुए देखी। पुलिस ने हालांकि तर्क दिया कि मानसिक रूप से बीमार 15 रोगी एक साथ आए और भागने की अपनी योजना में सफल थे ,जो संदिग्ध लगता है। पुलिस ने कहा सच्चाई का पता लगाने के लिए सभी कोणों से मामले की जांच कर इसका पता लगाया जाएगा।