अगरतला। त्रिपुरा में निकाय चुनावों से पहले तृणमूल कांग्रेस (TMC) के महासचिव अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि अगर वह मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देब और उनकी “धमकाने की रणनीति” को हराने में विफल रहे तो वह राजनीति छोड़ देंगे।

अगरतला में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) ने कहा, “बीजेपी (BJP) ने कल से आतंक का शासन छोड़ दिया है क्योंकि उन्हें पहले ही पता चल गया है कि सरकार में उनके दिन अब ज्यादा नहीं है। अगर मैं त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देब (Tripura Chief Minister Biplab Kumar Deb) और डराने-धमकाने की उनकी रणनीति को हराने में विफल रहता हूं तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा।”

तृणमूल सांसद ने कहा कि त्रिपुरा में लोकतंत्र पर हमला हो रहा है। बनर्जी ने कहा, “अगर मतदाता स्वतंत्र रूप से अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते हैं, जिसकी मौजूदा स्थिति को देखते हुए काफी कम संभावना है, तो भाजपा अगले विधानसभा चुनावों में अपना खाता खोलने में विफल हो जाएगी।” तृणमूल सांसद ने लोगों से भाजपा के ‘गुंडों’ से नहीं डरने और मतदान केंद्रों तक सुरक्षित पहुंचने के लिए भाजपा समर्थक होने का नाटक कर उन्हें मूर्ख बनाने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, ”अगर आप मतदान केंद्रों तक पहुंचने से डरते हैं तो मेरा सुझाव है कि भाजपा का कमल का झंडा लेकर ‘भाजपा जिंदाबाद’ का नारा लगाएं, लेकिन बूथ के अंदर पहुंचकर ‘जोड़ाफूल’ (तृणमूल चिन्ह) का बटन दबाएं। उन्होंने आपको लंबे समय तक मूर्ख बनाया है, अब आपका समय भाजपा को मूर्ख बनाने का है।”

आगामी निकाय चुनावों में लोगों से तृणमूल को वोट देने का आग्रह करते हुए, बनर्जी ने कहा, “टीएमसी अगरतला के विकास की दिशा में काम करेगी। भाजपा सरकार ने राज्य को 50 साल पीछे धकेल दिया है। मुख्यमंत्री बिप्लव देब (Chief Minister Biplab Deb) ने कहा कि वह अदालत और कानूनों का सम्मान नहीं करते हैं। लोग सुरक्षित नहीं हैं और पुलिस भी सुरक्षित नहीं है। यह त्रिपुरा का डबल इंजन सरकारी मॉडल है। अब लोगों को यह तय करने की आवश्यकता है कि वे दुआरे सरकार (आपके दरवाजे पर सरकार) मॉडल चाहते हैं या दुआरे गुंडा (आपके दरवाजे पर गुंडे)।”

उन्होंने कहा, ”त्रिपुरा में पूरी तरह अराजकता है। पत्रकारों, पुलिस और वकीलों पर हमले हो रहे हैं। कानून व्यवस्था नहीं है। टीएमसी कार्यकर्ताओं पर बीजेपी सरकार के गुंडों का हमला हो रहा है। वे महिलाओं और लोगों पर अत्याचार कर रहे हैं। हम त्रिपुरा के लोगों के लिए लड़ रहे हैं। हम त्रिपुरा में एक इंच भी मैदान नहीं छोड़ेंगे।”