त्रिपुरा शिक्षा विभाग द्वारा सरकारी डिग्री कॉलेजों की परीक्षाएँ जो पहले 6 सितंबर से ऑनलाइन मोड में आयोजित होने वाली थीं उसको स्थगित करने का आदेश देने के तीन दिन बाद छात्रों ने गुरुवार को उच्च शिक्षा निदेशक के समक्ष निर्णय वापस लेने के लिए एक ज्ञापन रखा।

नवीनतम आदेश राज्य में COVID-19 मामलों की संख्या में कमी के बीच शैक्षणिक संस्थानों को फिर से खोलने के निर्णय के बाद आया है।

गुरुवार को अगरतला में बीर बिक्रम मेमोरियल कॉलेज सहित विभिन्न जिलों के कॉलेजों के छात्रों ने एक ज्ञापन सौंपकर ऑनलाइन परीक्षा रद्द करने और पहले से घोषित कार्यक्रम के साथ जारी रखने के निर्णय को वापस लेने की मांग की।

अगरतला कार्यालय लेन क्षेत्र में शिक्षा निदेशालय के सामने प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने कहा कि महामारी के कारण उन्हें पहले ही एक साल का नुकसान हो चुका है।

छात्रों के मुताबिक़ त्रिपुरा सरकार ने ऑनलाइन परीक्षा रद्द करने और ऑफलाइन परीक्षा आयोजित करने का फैसला किया है। हालांकि, त्रिपुरा राज्य के बाहर के उच्च शिक्षा संस्थान विश्वविद्यालय में प्रवेश पाने के लिए निर्धारित समय पर ऑनलाइन परीक्षा दे रहे हैं।

त्रिपुरा विश्वविद्यालय राज्य के सभी छात्रों को उच्च शिक्षा के अवसर प्रदान नहीं कर पाएगा क्योंकि सभी छात्रों के लिए कोई प्रवेश नियम नहीं है। इसलिए, कई को बाहरी राज्य में प्रवेश की तैयारी करनी होती है। लेकिन अब, यदि बाद की तारीख में ऑफलाइन परीक्षाएं आयोजित की जाती है तब तक बाहरी राज्यों में प्रवेश की समय सीमा समाप्त हो जाएगी।