बिप्लब देब के शनिवार को त्रिपुरा के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद, राज्य इकाई के अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद डॉ माणिक साहा को विधायक दल की बैठक के बाद इस पद नियुक्त किया गया। 

यह भी पढ़े : Chandra grahan 2022: बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगेगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, इन तीन राशियों के खुलेंगे भाग्य

बता दें कि बिप्लब कुमार देब ने शनिवार को अचानक इस्तीफा दे दिया, जिससे राज्य में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली सरकार की कमान राज्य में अगले साल होने वाले चुनाव से पहले नए हाथ में सौंपने का रास्ता बन गया है। देब ने कहा कि उन्होंने पार्टी नेतृत्व के निर्देश पर यह कदम उठाया है और पार्टी भविष्य में जो भी जिम्मेदारी देती है उसे वह सहर्ष स्वीकर करेंगे। 

देब के इस्तीफे के तुरंत बाद भाजपा ने विधायक दल की बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में भूपेंद्र यादव और विनोद तावड़े शामिल हुए। देब (50) मार्च 2018 से त्रिपुरा के मुख्यमंत्री के पद पर थे। वह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के पुराने कार्यकर्ता हैं। उन्हें वर्ष 2016 में त्रिपुरा में भाजपा का काम संभाला था। इससे पहले वह 15 वर्ष तक दिल्ली में रहकर संघ का काम किया था। वह यहां जिम प्रशिक्षक का काम भी करते थे। 

यह भी पढ़े : Mahindra Scorpio 2022 का नया टीजर जारी, दिखने में बहुत दमदार है SUV की नई जनरेशन

गौरतलब है कि चुनाव से पहले भाजपा अपने चुनाव वाले राज्यों में मुख्यमंत्री का प्रयोग करती रही है। पार्टी ने इससे पहले उत्तराखंड और गुजरात में मुख्यमंत्री बदला था। पार्टी का यह प्रयोग उसके पक्ष में रहा था।